Breaking News उत्तर प्रदेश देश राजनीती होम

बीएसएफ के खाने की शिकायत करने के बाद बर्खास्त किए गए तेज बहादुर अब वाराणसी से नरेंद्र मोदी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे

दो साल पहले सोशल मीडिया पर बीएसएफ के खाने को लेकर शिकायत करने के बाद सैन्य सेवाओं से बर्खास्त किए गए तेज बहादुर अब वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे. तो वहीं भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर ने भी नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरने के मंसूबे जाहिर किए हैं.

साल 2017 में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था. इस वीडियो में एक सैनिक, उन्हें दिए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता की शिकायत करता दिख रहा था. ये वीडियो उस समय तेजी से फैला और इस पर खासा बवाल भी मचा. वीडियो पोस्ट करने के मामले में 2017 में बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव को बर्खास्त कर दिया गया था. बर्खास्त किया गए जवान ने अब सीधे पीएम मोदी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

पीएम मोदी से लेंगे सीधी टक्कर

2017 में नौकरी से निकाले गए तेज बहादुर यादव अब उत्तर प्रदेश के वाराणसी संसदीय क्षेत्र से सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे. हरियाणा के रेवाड़ी में तेज बहादुर यादव ने पत्रकारों से कहा कि वह वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे. यादव ने कहा कि वह भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए चुनाव लड़ना चाहते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने भ्रष्टाचार का मामला उठाया लेकिन मुझे बर्खास्त कर दिया गया. मेरा पहला उद्देश्य सुरक्षा बलों को मजबूत करना और भ्रष्टाचार खत्म करना होगा.’’

BSF ने नौकरी से किया था बर्खास्त

गौरतलब है कि तेज बहादुर यादव ने 2017 में सोशल मीडिया पर एक वीडियो अपलोड किया था, जिसमें वह जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पहाड़ी इलाके के बर्फीले स्थान पर सैनिकों को मिलने वाले भोजन की गुणवत्ता की शिकायत करते नजर आ रहे थे. बीएसएफ ने जांच में पाया था कि तेजबहादुर यादव के कारण बीएसएफ की छवि को नुकसान पहुंचा है. इसके बाद उसे अनुशासनहीनता के आरोप में नौकरी से हाथ धोना पड़ा था.

बेटे ने की थी खुदकुशी

पतली दाल और जली हुई रोटी का वीडियो फेसबुक पर अपलोड करके चर्चा में आने वाले बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव के बेटे ने इसी साल जनवरी में आत्महत्या कर ली थी. तेज बहादुर यादव के बेटे ने अपने पिता की लाइसेंसी रिवॉल्वर से खुद को गोली मारी थी. घटना के समय तेज बहादुर यादव घर पर नहीं थे.

हरियाणा के रेवाड़ी में तेज बहादुर यादव ने पत्रकार वार्ता में अपने इरादे साफ जाहिर कर दिए कि वह अब देश और उत्तर प्रदेश की सबसे हाई प्रोफाइल राजनीतिक सीट, वाराणसी से सीधे पीएम मोदी के खिलाफ सियासी लड़ाई लड़ने जा रहे हैं.