देश होम

OIC में खाली रही PAK की कुर्सी, आतंक के खिलाफ सुषमा ने दिया कड़ा संदेश

OIC की बैठक को संबोधित करतीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (फोटो-एएनआई)

ऑर्गनाईजेशन ऑफ इस्लामिक को-ऑपरेशन (OIC) की बैठक में पहली बार भारत का प्रतिनिधित्व कर रहीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आतंकवाद के खिलाफ जोरदार लड़ाई की अपील की है. बिना पाकिस्तान का नाम लिए सुषमा ने कहा कि आतंकवाद का दायरा बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद जिंदगियां तबाह कर रहा है. दुनिया भर के 57 मुस्लिम देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत गांधी का देश है जहां हर प्रार्थना शांति से खत्म होती है.

सुषमा स्वराज ने अपने भाषण में आतंकवाद के खिलाफ भारत के एजेंडे को रेखांकित किया. उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को किसी भी धर्म के खिलाफ जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए. सुषमा स्वराज ने कहा कि आतंकवाद का समर्थन हमेशा धर्म के विद्रूप रूप को पेशकर किया जाता है. उन्होंने कहा, “आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी भी धर्म के खिलाफ संघर्ष नहीं है, जैसा कि इस्लाम का मतलब शांति होता है, इसी तरह अल्लाह के 99 नामों में से किसी का मतलब हिंसा नहीं होता है. इसी तरह हर धर्म शांति और मित्रता की पैरवी करता है.”

सुषमा स्वराज ने प्राचीन भारत की वैदिक परंपरा का उदाहरण दिया और कहा कि भारत ने हमेशा से बहुलतावाद को संरक्षण दिया है और उसे आत्मसात किया है क्योंकि ये हमारे धार्मिक संस्कृत ग्रंथों में लिखा है. ऋग वेद कहता है, ‘एकम सत्यम विप्रा बहुधा वदन्ति’. इसका मतलब होता है भगवान एक हैं लेकिन विद्वान जन उन्हें अलग अलग नामों से पुकारते हैं.

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि यदि हमें मानवता को बचाना है तो आतंक को पनाह देने वाले देशों को कहना पड़ेगा कि वे इसे शह देना बंद करें. यही नहीं ऐसे राज्यों को उनकी सीमा में मौजूद आतंकी कैंपों को नष्ट करे और आतंकियों को फंडिंग और समर्थन देना बंद करें.इस मीटिंग में भारत को बुलाने पर पाकिस्तान ने OIC का बहिष्कार किया है. पाकिस्तान ने मांग की थी कि इस मीटिंग से भारत को बाहर किया जाए, हालांकि OIC बैठक की अध्यक्षता करे अबुधाबी ने पाकिस्तान की इस दलील को मानने से इनकार कर दिया. OIC की बैठक में पाकिस्तान की सीट आज खाली रही.