देश राजनीती होम

उरी-पुलवामा के बाद भारत ने जो किया, वो सबने देखाः PM मोदी

Prime minister Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को तमिलनाडु के कन्याकुमारी में कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया. इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने भारतीय सैन्य कर्मियों के साहस और पराक्रम की जमकर तारीफ की. साथ ही आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को कठघरे में खड़ा किया. इस दौरान पीएम मोदी ने सुरक्षा बलों की कार्रवाई पर सवाल उठाने और सबूत मांगने वाले राजनीतिक दलों को भी निशाने पर लिया.

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि जांबाज एयर वॉरियर अभिनंदन भी तमिलनाडु से आते हैं. प्रत्येक भारतीय को विंग कमांडर अभिनंदन पर गर्व है. आपको बता दें कि बुधवार को भारतीय पायलट अभिनंदन को पाकिस्तान ने पकड़ लिया था. हालांकि बाद में गुरुवार को पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने अभिनंदन को छोड़ने का ऐलान कर दिया था.

इसके अलावा पीएम मोदी ने यह भी कहा कि देश की पहली महिला रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण भी तमिलनाडु से आती हैं, जिनके नेतृत्व में भारतीय सेना आगे बढ़ रही है. पीएम ने कहा कि भारत पिछले कई वर्षों से आतंकवाद से जूझ रहा है. अब आतंकवाद के मसले पर भारत असहाय नहीं हैं. साल 2004 से 2014 के बीच भारत में कई आतंकवादी हमले हुए. देश को उम्मीद थी कि आतंकवादियों को उनके करतूत की सजा मिलेगी, लेकिन कभी कुछ नहीं हुआ.

पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 26/11 मुंबई हमले के आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की भारत उम्मीद कर रहा था, लेकिन कुछ नहीं हुआ. पाकिस्तान को इसके सबूत भी दिए गए, लेकिन उसने कोई कार्रवाई नहीं की. तत्कालीन भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने की खबर भी मीडिया में आई, लेकिन रोक लगा दी गई.

पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार के समय में उरी में सेना पर आतंकी हमला हुआ, जिसके बाद आप सभी ने देखा है कि क्या हुआ है. आपको बता दें कि उरी आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी और आतंकियों के ठिकानों को तबाह कर दिया था. इसमें काफी संख्या में आतंकवादी भी मारे गए थे. इस कार्रवाई के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकत से बाज नहीं आया और पुलवामा में आतंकी हमला किया गया, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए.

इस घटना के बाद भारत ने पाकिस्तान में घुसकर एयर स्ट्राइक की और आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को तबाह कर दिया. भारतीय सेना की इस बहादुरी को सभी ने देखा है. पीएम मोदी ने कहा, ‘देश की सेवा में जी जान लगाने वाले सभी बहादुर सैनिकों को मैं सलाम करता हूं. इनकी सतर्कता के चलते हमारा देश सुरक्षित है.

इस अवसर पर पीएम मोदी ने सबसे तेज चलने वाली ट्रेन तेजस को हरी झंडी दिखाई. यह ट्रेन मदुरई से चेन्नई के बीच दौड़ेगी. साथ ही रामेश्वरम से धनुषकोडी के बीच रेलवे लाइन की नींव भी रखी गई. रेलवे लाइन की नींव रखते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह रेलवे लाइन 1964 के आपदा के बाद क्षतिग्रस्त हो गई थी. इतना समय बीत जाने के बावजूद इसको दुरुस्त करने की ओर तनिक भी ध्यान नहीं दिया गया था.

उन्होंने कहा कि पीएम किसान योजना के तहत एक करोड़ 10 लाख किसानों के खाते में पहली इंस्टॉलमेंट भेजी जा चुकी है. उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि जरा सोचिए कि एक फरवरी को जिस योजना की घोषणा की गई, उसको उसी महीने लागू कर दिया गया. हमने इस योजना को 24 दिन में लागू करने के लिए बिना रुके 24 घंटे काम किया.

पीएम मोदी ने कहा कि 30 साल बाद 2014 में पहली बार किसी पार्टी ने बहुमत के साथ सरकार बनाई. इसके जरिए लोगों ने साफ मैसेज दिया कि वो ऐसी मजबूत सरकार चाहते हैं, जो कड़े फैसले ले सके. पीएम ने कहा कि लोग ईमानदारी चाहते हैं, वंशवाद नहीं. लोग विकास चाहते हैं, विनाश नहीं. लोग उन्नति चाहते हैं, पॉलिसी पैरालिसिस नहीं. लोग अवसर चाहते हैं, अवरोध नहीं. लोग सुरक्षा चाहते हैं, गतिरोध नहीं. लोग समेकित ग्रोथ चाहते हैं, वोट बैंक की राजनीति नहीं.

इस दौरान पीएम मोदी ने भारतीय मछुआरों की आय में इजाफा करने की बात भी कही. उन्होंने कहा कि अगर हम मछुआरे भाई और बहनों की इनकम में बढ़ोत्तरी करना चाहते हैं, तो हमें मत्स्य पालन से जुड़े बुनियादी ढांचे का विकास करना होगा. उन्होंने कहा कि भारत सरकार मछुआरों की सुरक्षा और बेहतरी के लिए संवेदनशील है. राजनयिक प्रयासों से मई 2014 से अब तक सैकड़ों मछुआरों को श्रीलंका से छुड़वाया गया है.

इसके अलावा पीएम मोदी ने आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में भी एक रैली को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पर हमला बोला. नायडू का नाम लिए बिना मोदी ने कहा कि अगर यहां के नेता अपना काम ईमानदारी से किया होता, तो उनको अपनी नाकामी का ठीकरा मोदी पर नहीं फोड़ना पड़ता. इस दौरान उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के सामने अपना राजनीतिक वजूद बचाने की चुनौती है, जिसके लिए वो दिन-रात झूठ बोल रहे हैं.