देश होम

आतंकी मसूद अजहर बोला- चीन पाकिस्तान के साथ, भारत से डरने की कोई जरूरत नहीं

जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के ठीक एक हफ्ते बाद जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर ने नया ऑडियो जारी किया है. ताजा ऑडियो में मसूद अजहर ने पुलवामा हमले में किसी तरह का हाथ होने से इनकार किया है, यहां तक की उसने दावा किया है कि वह कभी आतंकी आदिल अहमद डार से नहीं मिला था. इस ऑडियो में उसने पाकिस्तानी सरकार और मीडिया को डरपोक भी बताया. इससे पहले हमले के बाद जैश ने इसकी जिम्मेदारी ली थी, लेकिन अब वह मुकरता दिख रहा है.

गुरुवार को जारी किए गए इस ऑडियो में मसूद अजहर ने कहा कि पुलवामा हमले से हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 2019 के लोकसभा चुनाव में घाटा होगा. उसने ये भी कहा कि वह पाकिस्तान को किसी तरह की जंग में नहीं धकेलना चाहता है. ऑडियो में ये भी कहा गया है कि चीन हमेशा पाकिस्तान का ही समर्थन करेगा, इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है. उसने कहा कि नरेंद्र मोदी कश्मीर में पूरी तरह फेल हो गए हैं.

पुलवामा आतंकी हमले के बाद दुनियाभर में घिरी पाकिस्तान की सरकार को मसूद अजहर ने डरपोक करार दिया, उसने कहा कि यहां की मीडिया और सरकार दोनों ही डरी हुई है. अपने इस ऑडियो में मसूद अजहर ने आदिल अहमद डार का भी नाम लिया. बता दें कि आदिल ने ही पुलवामा में आत्मघाती हमला किया था और अपनी गाड़ी लेकर सीआरपीएफ के काफिले में जा घुसा था.

ऑडियो में मसूद अजहर बोला, ‘’ जितनी गाली देनी है दे दो मुझे, लेकिन आदिल अहमद के खिलाफ कुछ ना कहना, कश्मीर में आजादी की लड़ाई अपने पैरों पर खड़ी हो चुकी है. वहां किसी विदेशी ताकत की जरूरत नहीं है.’’

उसने इस ऑडियो में आदिल से किसी तरह का संबंध होने से भी नकारा, उसने कहा कि आदिल को पूरी दुनिया मेरे साथ जोड़ रही है. लेकिन मेरी हसरत है कि काश, मैं उससे कभी मिला होता. अगर आदिल की वजह से मुझे मार दिया जाए तो कोई गम नहीं होगा, ये मेरे लिए शहादत होगी.

अपने इस ऑडियो में मसूद अजहर ने पाकिस्तानी कॉलमिस्ट अयाज़ की भी तारीफ की, जिसने आदिल अहमद डार की खुले तौर पर तारीफ की थी. उसने अपील की है कि पाकिस्तानी आवाम को हिंदुस्तान के दबाव में नहीं आना चाहिए. बता दें कि अमेरिका, फ्रांस, रूस जैसे कई देश जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर बैन लगाने के लिए भारत की मुहिम में साथ आ गए हैं, जिसके बाद से ही जैश बौखला गया है.

आपको बता दें कि 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे, पहले इसकी जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी. लेकिन अब वह मुकरता दिख रहा है. घटना के बाद से ही दुनियाभर में पाकिस्तान की थू-थू हो रही है, जिसके बाद इमरान खान को सफाई देने आना पड़ा.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने बयान में कहा कि अगर कोई सबूत हैं तो वह कार्रवाई करने के लिए तैयार हैं. गौरतलब है कि जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर पिछले कई साल से पाकिस्तान को ही अपना अड्डा बनाए हुए है. पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले जैश के आतंकियों को भारतीय सुरक्षाबलों ने पुलवामा में ही एक एनकाउंटर में मार गिराया है.