देश मनोरंजन होम

फ्रॉड वाला रोमांस : सच्चे प्यार की तलाश में लोगों ने गंवाए 450 करोड़ रुपये

फ्रॉड वाला रोमांस : सच्चे प्यार की तलाश में लोगों ने गंवाए 450 करोड़ रुपये

वेलेंटाइन वीक चल रहा है और रोज डे से लेकर प्रॉमिस डे, चॉकलेट डे, टैडी डे, हग डे तक मनाए जा चुके हैं। अब अंतिम दो दिन हैं जिसमें आज यानि 13 फरवरी को किस डे और अंत में 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे मनाया जाता है। फरवरी के इन दिनों के बारे में कहा जाता है कि यह साल का वो वक्त होता है जब फिजाओं में रोमांस तैरता है। सच्चे प्यार और रोमांस की तलाश में लोग क्या-क्या कोशिशें नहीं करते। इन्हीं कोशिशों में से एक है डेटिंग एप्स के जरिए सच्चे साथी की तलाश। लेकिन यही तलाश कई बार आपको मुसीबत में भी डाल देती है। ब्रिटेन में 450 करोड़ रुपये के रोमांस फ्रॉड का खुलासा हुआ है।

ब्रिटिश पुलिस रिपोर्टिंग सेंटर ‘एक्शन फ्रॉड’ ने सच्चे प्यार की तलाश कर रहे लोगों को सावधान किया है। पुलिस ने इसके लिए ऐसे आंकड़े पेश किए हैं, जो ऑनलाइन प्यार की तलाश करने वालों को डराने के लिए काफी हो सकते हैं। पुलिस आंकड़ों के अनुसार ब्रिटेन में हर साल 5 करोड़ पाउंड यानी भारतीय करेंसी के अनुसार करीब 450 करोड़ रुपये का रोमांस फ्रॉड होता है। यहां रोमांस फ्रॉड का सीधा मतलब डेटिंग एप या सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों पर नकली प्रोफाइल बनाकर किसी के साथ रिश्ता बनाना और फिर मौका मिलते ही धोखे से उसका पैसा लेकर रफू चक्कर हो जाने से है।

महिलाएं जल्द ही इमोशनल हो जाती हैं और फ्रॉड इस बात को जानते हैं। यही कारण है कि रोमांस फ्रॉड के 63 फीसद मामले महिलाओं के साथ ही होते हैं और इनकी औसत उम्र 50 साल होती है। यह फ्रॉड इतने शातिर होते हैं कि पहले वह पीड़ित को विश्वास दिला देते हैं कि वही उनका परफेक्ट पार्टनर है, जिसकी उन्हें तलाश थी। फिर जैसे ही मौका मिलता है, इस विश्वास का फायदा उठाकर किसी न किसी बहाने पीड़ित से पैसा लेकर यह लोग चंपत हो जाते हैं। यही नहीं कई बार तो निजी जानकारियां हासिल करने के बाद धोखा दिया जाता है और कई बार अंतरंग पलों की वीडियो रिकॉर्डिंग करके ब्लैकमेल करके भी पैसा ऐंठा जाता है।

आंकड़ों की बात करें तो अकेले साल 2018 में ही रोमांस फ्रॉड से जुड़ी 4555 रिपोर्ट दर्ज कराई गईं। साढ़े चार हजार से ज्यादा इन मामलों में पीड़ितों को कुल 450 करोड़ रुपये का नुकसान झेलना पड़ा। यह भी चौंकाने वाला तथ्य है कि साल 2017 के मुकाबले यह आंकड़ा 27 फीसद ज्यादा है। 42 फीसद पीड़ितों का मानना है कि रोमांस फ्रॉड में उन्हें धन का नुकसान तो झेलना ही पड़ा, साथ ही इसका उनके स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ा है। कई पीड़ित तो ऐसे भी हैं, जिन्होंने शर्म और बेइज्जती की आशंका के चलते रोमांस फ्रॉड की शिकायत ही दर्ज नहीं की।