उत्तर प्रदेश देश होम

नेपाल में कट्टरपंथ की ट्रेनिंग देने गए पश्चिमी यूपी के 15 लोग, रॉ और आईबी के रडार पर

IB

देश की सुरक्षा एजेंसियों ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश और नेपाल के मदरसों-मस्जिदों में कट्टरपंथ की पाठशाला के नए कनेक्शन का खुलासा किया है। एजेंसियों के पास मौजूद गोपनीय दस्तावेज में इस बात का उल्लेख है कि पश्चिमी यूपी के 15 लोग नेपाल के बारा जिले में स्थित एक मस्जिद में मुस्लिम युवाओं को जमात के लिए प्रेरित करने के मकसद से गए थे और वे रक्सौल के रास्ते भारत वापस आ सकते हैं। सुरक्षा एजेंसियां इनकी गतिविधियों पर रॉ और आईबी के जरिए नजर बनाए हुए हैं। इनके आईएस प्रेरित समूह से कनेक्शन को खंगालने का प्रयास हो रहा है।

जनवरी में गए थे प्रशिक्षण देने

सुरक्षा एजेंसियों की उच्च स्तरीय बैठक में साझा किए गए दस्तावेज के मुताबिक, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले से 15 लोग नेपाल के बारा जिले में स्थिति कचोरवा गांव, सिमोनगर थाना के अंतर्गत स्थित एक मस्जिद में जनवरी में गए और वहां कई दिन रुके। इनको वहां पर मुस्लिम समुदाय से जुड़े सुन्नी युवाओं को प्रशिक्षण देने की जिम्मेदारी दी गई थी। मदरसों और कुछ अन्य मस्जिदों में प्रशिक्षण के बाद इन्हें रक्सौल के रास्ते वापस आना था।

कट्टरपंथ की पाठशाला से जुड़े लोगों के नाम भी दस्तावेज में दर्ज हैं, लेकिन अभी एजेंसियां इनकी पहचान सार्वजनिक नहीं कर रही हैं। एजेंसियों की ओर से इस मामले में तमाम कड़ियों को जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि कई और लोग इस मामले से जुड़े हो सकते हैं।

पाकिस्तानी संपर्क भी तलाश रहे अधिकारी

सुरक्षा एजेंसी से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि इस पूरे रीजन में कट्टरपंथ बड़ी चुनौती के रूप में सामने आ रहा है। युवाओं को कट्टरपंथ (रेडिकलाइज) के आगोश में लेकर उन्हें आतंकी साजिश का हिस्सा बनाने की कोशिश हो रही है। एजेंसियां पश्चिमी उत्तर प्रदेश और नेपाल के धार्मिक संस्थानों के बीच पनप रहे आपसी संपर्क के बीच पाकिस्तानी कनेक्शन भी तलाश कर रही हैं।