देश राजनीती होम

कर्नाटक ऑडियो विवाद: येदियुरप्पा ने मानी विधायक के बेटे से मुलाकात की बात

बीएस येदियुरप्पा

कर्नाटक में इस समय राजनीतिक संकट गहराया हुआ है। कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर (जदएस) ने भाजपा पर अपने विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाया है। इसके लिए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने हाल ही में ऑडियो क्लिप जारी किया है। अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है। येदियुरप्पा ने इस बात को स्वीकार कर लिया है कि उन्होंने जदएस विधायक नगनगौड़ा के बेटे शरणगौड़ा से देवदुर्ग के इंस्पेक्शन बंगले में मुलाकात की थी।

येदियुरप्पा का आरोप है कि विधायक के बेटे ने मुख्यमंत्री की सलाह पर उनसे मुलाकात की थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘उसने (शरणगौड़ा) बातचीत को रिकॉर्ड कर लिया और अपनी सुविधा अनुसार ऑडियो क्लिप को काटा गया है। जिससे कि एक बातचीत का एक बड़ा हिस्सा गायब है। एचडी कुमारस्वामी ने साजिश के तहत शरणगौड़ा को इंस्पेक्शन बंगले पर भेजा था।’

येदियुरप्पा ने आगे कहा, ‘कुमारस्वामी राजनीति में एक नए स्तर पर पहुंच गए हैं। उन्होंने चुने हुए प्रतिनिधियों को फंसाने का नया ट्रेंड शुरू किया है। यह सच है कि मैंने शरणगौड़ा से बातचीत की है लेकिन सबकुछ सामने नहीं आया। मुख्यमंत्री षड्यंत्र की राजनीति में लिप्त हैं। विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार एक ईमानदार शख्स हैं। मैंने उन्हें कुछ भी ऑफर नहीं किया है। कुमारस्वामी ने जो प्रेस कांफ्रेस में कहा वह सच से काफी दूर है।’

इससे पहले कुमारस्वामी ने शनिवार को कहा था कि प्रदेश सरकार को गिराने के लिए येदियुरप्पा के खेल के बारे में उन्होंने जो ऑडियो टेप जारी किया है अगर वह नकली और मनगढ़ंत साबित हो जाता है तो वह राजनीति से सन्यास ले लेंगे। कुमारस्वामी ने येदियुरप्पा पर आरोप लगाते हुए कहा था कि कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने जदएस के एक विधायक को रिश्वत और अन्य प्रस्तावों के साथ लुभाने की कोशिश की।

दक्षिण कन्नड़ जिले के एक धार्मिक स्थान से कुमारस्वामी ने कहा कि मैं इस स्थान पर यह कह रहा हूं, अगर यह साबित हो जाता है कि यह येदियुरप्पा नहीं हैं, जिन्होंने इसके बारे में कहा था और यह नकली और कुमारस्वामी की मनगढ़ंत बात है तो मैं राजनीति से सन्यास ले लूंगा।