Breaking News उत्तर प्रदेश देश होम

लखनऊः पांच करोड़ रुपये बरामद, दो गिरफ्तार

मनी लॉन्ड्रिंग में लगे दो प्रॉपर्टी डीलरों को उत्तर प्रदेश के लखनऊ में गिरफ्तार किया गया है। दोनों इंडीवर कार से पांच करोड़ रुपये पार्टियों को डीलिवर करने जा रहे थे। फिनिक्स मॉल के गेट पर वे रुपये हैंडओवर करने ही वाले थे कि पुलिस की टीम ने उन्हें दबोच लिया। गाड़ी में रखे पांच करोड़ रुपये जब्त कर दोनों को आयकर विभाग को सुपुर्द कर दिया गया है। गिरोह का मास्टरमाइंड प्रॉपर्टी डीलर फरार है। दोनों ने बताया कि हर निवेश पर उन्हें एक फीसदी कमिशन मिलता था।

इंस्पेक्टर कृष्णानगर यशकांत सिंह ने बताया कि पकड़े गए राजाजीपुरम निवासी देवेश श्रीवास्तव और मड़ियाव निवासी नैमिष श्रीवास्तव कई साल से मनी लॉन्ड्रिंग कर रहे हैं। दोनों गोमतीनगर निवासी राकेश कुमार के साथ प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करते हैं।

कृष्णानगर पुलिस को जानकारी मिली कि उसी इलाके में अक्सर देवेश और नैमिष रुपये की डिलिवरी देने आते हैं। बुधवार को भी दोनों राकेश की इंडीवर से पांच करोड़ रुपये लेकर फिनिक्स मॉल के गेट नंबर तीन के पास किसी का इंतजार कर रहे थे। रुपयों की डिलिवरी उन निवेशकों को करनी थी, जिनका शेयर पूरा हो गया था। पुलिस ने मौके से दोनों को पकड़ लिया।

थाने लाकर दोनों से पूछताछ की गई तो रुपयों के बाबत सटीक जानकारी नहीं दे पाए। इस पर इनकमटैक्स विभाग के अफसरों को सूचित किया गया। इनकम टैक्स के जॉइंट डायरेक्टर टीम के साथ थाने पहुंचे। उनकी मौजूदगी में रुपये गिने गए। टीम ने काफी देर दोनों से पूछताछ की। उधर, राकेश को पकड़ने के लिए टीम ने दबिश दी, लेकिन वह फरार हो गया है। राकेश की गाड़ी पुलिस ने कब्जे में ले ली है।

आरटीजीएस से लेते थे रकम
पुलिस के मुताबिक नैमिष डेढ़ से दो गुना वापसी की शर्त पर लोगों से उनकी सफेद कमाई जमीन के कारोबार में निवेश करवाता था। पैसा एक मोबाइल नंबर पर आरटीजीएस के जरिए ट्रांसफर करवाया जाता था। निश्चित समय के बाद लोगों को तय डील के मुताबिक रकम कैश में दी जाती थी।