Breaking News उत्तर प्रदेश होम

यूपी: बोर्ड परीक्षा, बत्ती गुल, जनरेटर खराब, मोमबत्ती में एग्जाम

लखनऊ
यूपी बोर्ड हाई स्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षाएं गुरुवार को शुरू हो गईं। हालांकि पहले दिन मुख्य विषयों की परीक्षा नहीं थी, लेकिन फिर भी कुछ सेंटर्स पर खामियां सामने आई हैं। लखनऊ के अशर्फाबाद स्थित गिरधारी सिंह इंटर कॉलेज में मोमबत्ती की रोशनी में बोर्ड परीक्षा करवाई गई। इसके अलावा कहीं सीसीटीवी तो कहीं वॉइस रिकॉर्डर भी काम करता नहीं मिला। इस पर सचल दल ने केंद्र व्यवस्थापकों को व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

सुबह की पाली में 50 केंद्रों पर हाई स्कूल संगीत वादन और इंटर काष्ठ शिल्प, ग्रंथ शिल्प और सिलाई की परीक्षा थी। वहीं, दोपहर की पाली में इंटर मनोविज्ञान, शिक्षा शास्त्र एवं तर्कशास्त्र की परीक्षा 111 केंद्रों पर आयोजित की गई। सुबह परीक्षा केंद्रों के निरीक्षण के लिए सचल दल गिरधारी सिंह इंटर कॉलेज पहुंचा। यहां दो कमरों में 28 छात्र परीक्षा दे रहे थे।

परीक्षा कक्षों में था अंधेरा
वहां बिजली नहीं आ रही थी और जनरेटर भी काम नहीं कर रहा था। परीक्षा कक्षों में अंधेरा था। लाइट न होने से सीसीटीवी कैमरे भी बंद रहे। हालांकि, प्रिंसिपल किशोरी लाल ने रोशनी के लिए परीक्षारूम में मोमबत्तियां लगवाईं। उन्हें बिजली की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए।

सिर्फ एक कैमरा, वॉइस रिकार्डर भी नहीं
राजकीय दृष्टबाधित इंटर कॉलेज मोहन रोड पर सुबह दो कमरों में परीक्षा थी। यहां कमरों में दो की जगह एक कैमरा लगा था। एक कमरे में लगा दूसरा कैमरा काम नहीं कर रहा था। वायस रेकॉर्डर भी नहीं लगाया गया था। लाला गणेश प्रसाद बालिका इंटर कॉलेज गोसाईगंज में सीसीटीवी में लगाया वायस रेकॉर्डर काम नहीं कर रहा था। निरीक्षण के दौरान सचल दल को पता चला कि अब तक बहुत से कक्ष निरीक्षक ड्यूटी जॉइन करने नहीं पहुंचे।

पुलिसकर्मी ने छात्रा को केंद्र तक पहुंचाया
12वीं शिक्षा शास्त्र की एक छात्रा दोपहर दो बजे पेपर देने गुरुनानक बालिका इंटर कॉलेज बासमंडी चौराहा पहुंच गई। लेकिन वहां बताया गया कि उसका सेंटर गुरुनानक बालिका इंटर कॉलेज चंदर नगर है। परीक्षा का समय शुरू होता देख वह रोने लगी। इस पर वहां मौजूद एक पुलिसकर्मी ने उसे चंदरनगर स्थित सेंटर तक पहुंचाया।

जेडी का कंट्रोल रूम का टेलिफोन डेड
बोर्ड परीक्षा के लिए जेडी सुरेंद्र तिवारी ने अपने कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाया है। इसे उप-निरीक्षक संस्कृत पाठशाला के कमरे में स्थापित किया गया। इसका फोन नंबर 0522-2254070 सुबह से ही डेड हो गया। इस वजह से कंट्रोल रूम के सदस्यों को सूचनाएं मिलने में काफी दिक्कतें हुईं।