देश राजनीती होम

MP: 20 हजार की जगह 13 रुपये का कर्ज किया माफ, किसान ने बताया छलावा

Madhya pradesh Chief minister Kamal Nath (Courtecy- Reuters)

कर्जमाफी का वादा करके मध्य प्रदेश की सत्ता में काबिज होने वाली कांग्रेस सरकार पर किसानों को धोखा देने के आरोप लग रहे हैं. सूबे की कमलनाथ सरकार किसानों के 2 लाख रुपये तक के कर्ज माफ कर रही है, लेकिन इस बीच एक किसान ने कांग्रेस सरकार पर धोखा देने का आरोप लगाया है. राज्य के आगर मालवा के निपानिया बैजनाथ गांव के किसान ने आरोप लगाया कि उनका नाम कर्जमाफी की सूची में शामिल किया गया था, लेकिन सिर्फ 13 रुपये का कर्जमाफ किया गया है. हालांकि, उन पर 20 हजार रुपये का बैंक लोन हैं.

जब किसान अपनी कर्जमाफी की फरियाद लेकर अधिकारियों के पास गए, तो अधिकारियों ने कहा कि वो इस मसले पर कुछ नहीं कर सकते हैं. किसान ने कहा कि उनका 20 हजार का कर्ज माफ किया जाना चाहिए. उनके साथ सरकार ने कर्जमाफी के नाम पर छलावा किया है. साथ ही उन्होंने मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार से 20 हजार रुपये का कर्ज माफ करने की अपील की है. उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी ने किसानों के 2 लाख रुपये तक के कर्ज माफ करने का जो वादा किया था, वो उसको पूरा करे.

उन्होंने बताया कि कर्जमाफी के लिए सभी दस्तावेज सरकार को उपलब्ध कराए थे, जिसके बाद उनका नाम कर्जमाफी सूची में आ गया था. हालांकि जब कर्ज माफ करने की बात आई, तो छलावा किया गया. आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस किसानों से कर्जमाफी का वादा करके 15 साल बाद सत्ता में आई है. सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सत्ता की कमान संभालते ही किसानों की कर्जमाफी के आदेश भी जारी कर दिए हैं. इसके लिए उन्होंने जय किसान ऋण मुक्ति योजना शुरू की है. इसके तहत किसानों को कर्जमाफी के लिए आवेदन करना पड़ता है. इसके बाद कर्जमाफी की लिस्ट जारी की जाती है.

कर्जमाफी के लिए आवेदन 15 जनवरी से भरे जा रहे हैं, जो पांच फरवरी तक जारी रहेंगे. इसके बाद  22 फरवरी से कर्जमाफी की राशि किसानों के खातों में जाने लगेगी. बताया जा रहा है कि कमलनाथ सरकार की इस योजना से 55 लाख किसानों को फायदा होगा. सूबे में कुल 50 हजार करोड़ रुपये का कर्ज माफ हो रहा है. वहीं, मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओमकार सिंह मरकाम का कहना है कि कर्ज देने में जो गड़बड़ियां हुई हैं, वो अब सामने आ रही हैं. इन मामलों में कार्रवाई भी की जा रही है.