देश होम

2019 में गठबंधन सरकार बनी तो धीमी होगी अर्थव्यवस्था की रफ्तार: रघुराम राजन

देश में लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के खिलाफ विपक्षी दलों की बढ़ती एकजुटता के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि यदि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद देश में गठबंधन की सरकार आती है तो अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी पड़ सकती है। स्विट्जरलैंड के दावोस में आयोजित वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम (WEF) से इतर उन्होंने एक मीडिया चैनल से बातचीत में कहा कि देश में गठबंधन की सरकार बनती है तो विकास की गति सुस्त हो सकती है। कांग्रेस की सरकार आने पर वित्त मंत्री बनाए जाने की चर्चाओं पर उन्होंने कहा, ‘मैं कोई राजनीतिज्ञ नहीं हूं। ये सब महज अटकलें हैं।’ राजन ने जीएसटी को सही कदम बताया तो नोटबंदी को झटका करार दिया।

रघुराम राजन का यह बयान बीजेपी के नारे ‘देश को मजबूर नहीं मजबूत सरकार चाहिए’ को पुष्ट करती है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के खिलाफ देशभर में महागठबंधन तैयार करने की कोशिश चल रही है। देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में बीएसपी और एसपी ने हाथ मिला लिया है तो पिछले दिनों बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गैर एनडीए दलों को अपने मंच पर एकत्रित किया।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि यदि बीजेपी और उसके सहयोगी दल 2014 की तरह पूर्ण बहुमत नहीं ला पाए और कांग्रेस की स्थिति पहले से बेहतर रही तो अन्य दलों के साथ मिलकर मोदी को सत्ता से दूर रखने की पूरी कोशिश होगी। 2014 में बीजेपी को अपने दम पर बहुमत मिला था और इसी वजह से सरकार कई आर्थिक सुधारों पर बेझिझक आगे बढ़ सकी थी।