दिल्ली देश राजनीती होम

US से आया था सीएम केजरीवाल को धमकी भरा फोन, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

US से आया था सीएम केजरीवाल को धमकी भरा फोन, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को फोन पर जान से मारने की धमकी देने के सनसनीखेज मामले का राजफाश हो गया। दिल्ली पुलिस की जांच में पता चला है कि अरविंद केजरीवाल को यह धमकी भरा फोन अमेरिका (US) से अाया था। इतना ही नहीं, यह फोन एक शख्स ने अपने भाई को फंसाने से मकसद से किया था।

24 घंटे में सुलझ गया केस

दिल्ली पुलिस की मानें तो हाई प्रोफाइल नेता अरविंद केजरीवाल को धमकी देने के मामले को महकमे ने सिर्फ 24 घंटे में सुलझा लिया है। पुलिस को जांच के दौरान पता चला है कि धमकी का यह फोन कॉल अमेरिका से किया गया था।

भाई को फंसाने के लिए किया था सीएम को धमकी भरा कॉल

पुलिस के मुताबिक, जांच के दौरान पूछताछ में पता चला है कि सीएम अरविंद केजरीवाल को धमकी भरा कॉल करने वाला विकास टेंट हाउस के मालिक भोला का ही भाई है। यह भी पता चला है कि भोला का अपने भाई से प्रॉपर्टी को लेकर विवाद है। इसके चलते वह अपने भाई को फंसाना चाहता था, इसलिए उसने कॉल किया।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री आवास पर लगे लैंडलाइन पर सोमवार सुबह अज्ञात कॉलर ने फोन कर धमकी दी थी कि अरविंद केजरीवाल को जल्दी ही भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन पर हमला होने वाला है। इतना ही नहीं, कॉलर ने यह भी कहा था कि भोला नाम का शख्स हमला करेगा, जिसका विकासपुरी में टेंट हाउस है।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि मामला दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से जुड़ा होने के चलते जल्द ही जांच शुरू कर दी गई थी। जांच की कड़ी में जब पुलिस भोला तक पहुंची तो उसने बताया कि मुझे मेरा भाई धमका रहा है। इस पर पुलिस को शक हुआ तो पुलिस ने भोला के जरिये अमेरिका फोन करवाया। ऐसा करते ही धमकी वाले कॉल के नंबर का मिलान भोला के भाई के नंबर से हो गया। इस पर पुलिस ने भोला को छोड़ दिया है मगर जांच बंद नहीं की है।

बता दें कि 9 जनवरी को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की बेटी का अपहरण करने की धमकी भरा ईमेल मिला था। शिकायत पर दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने ईमेल भेजने वाले को रायबरेली से गिरफ्तार कर लिया था। आरोपित छात्र है और दिल्ली में रहकर सिविल सेवा समेत अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। वह इलाज से असंतुष्ट था, इसलिए प्रशासन का ध्यान आकर्षित करने को उसने यह ईमेल की थी। आरोपित के पास से वह मोबाइल फोन भी बरामद कर लिया गया है, जिससे उसने सीएम को ईमेल भेजी थी।दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर हमले का यह पहला मामला नहीं था, इससे पहले भी कई बार उन पर इस तरह के हमले हो चुके हैं। अप्रैल, 2016 में दिल्ली सचिवालय में ही पत्रकार वार्ता के दौरान उन पर जूता फेंका गया था। जूता फेंकने वाला आम आदमी सेना का कार्यकर्ता वेदप्रकाश शर्मा था। जूते के अलावा केजरीवाल की ओर सीडी भी उछाली गई।

फरवरी, 2016 में ही पंजाब के लुधियाना में अरविंद केजरीवाल की कार पर कुछ लोगों ने लोहे की रॉड और डंडों से हमला किया था, जिससे कार का सामने वाला शीशा टूट गया था।

जनवरी, 2016 में दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में ऑड ईवन फॉर्मूले के 15 दिवसीय ट्रायल की सफलता का जश्न मना रहे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर स्याही फेंकने का मामला सामने आया था। मुख्यमंत्री जब मंच से सभा को संबोधि‍त कर रहे थे, तभी एक महिला ने नाराजगी जाहिर करते हुए उन पर स्याही फेंकी थी।

इससे पहले 27 दिसंबर 2014 को दिल्ली में रैली के दौरान एक लड़के ने केजरीवाल पर पत्थर मारा था, यह अलग बात है कि उन्हें कोई चोट नहीं आई थी। फिर 26 दिसंबर 2014 को दिल्ली में रैली के दौरान उन पर अंडे फेंके गए थे।इससे भी पहले 2014 के लोकसभा चुनावों में दिल्ली में रोड शो के दौरान केजरीवाल को एक ऑटो ड्राइवर ने थप्पड़ मारा था। केजरीवाल को थप्पड़ मारने वाला व्यक्ति अपने हाथ में एक माला लिए हुए था। उसने एक जीप पर सवार केजरीवाल को पहले माला पहनाई फिर उसके बाद उन्हें थप्पड़ मार दिया था।