देश राजनीती होम

Karnataka Crisis: सरकार पर संकट के बीच आपस में भिड़े कांग्रेस के 2 विधायक

इसी रिजॉर्ट में कांग्रेस के विधायकों को ठहराया गया है

कर्नाटक में चल रहे सियासी ड्रामे के बीच कांग्रेस विधायकों में मारपीट की खबर आई है. बताया जा रहा है कि बेंगलुरु के रिजॉर्ट में ठहरे दो कांग्रेसी नेता आपस में भिड़ गए. इस दौरान विधायक आनंद सिंह को चोट लगी है. हालांकि, कांग्रेस का कहना है कि मारपीट की कोई घटना नहीं हुई है, आनंद सिंह को सीने में दर्द के कारण हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है. वहीं, बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस झूठ बोल रही है.

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, बेंगलुरु के रिजॉर्ट में कांग्रेस विधायक जेएन गणेश ने आनंद सिंह के सिर पर बोतल से कथित हमला किया है. उन्हें रविवार सुबह हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. पार्टी के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार का कहना है कि नेताओं के बीच किसी भी तरह की हाथापाई नहीं हुई है, जबकि उनके भाई डीके सुरेश अस्पताल में ही देखे गए. उन्होंने बताया कि मुझे लड़ाई के बारे में जानकारी नहीं. आनंद सिंह सीने में दर्द में की वजह से अस्पताल में भर्ती हैं. उन्हें किसी तरह की कोई चोट नहीं लगी है. उनके परिजन भी अस्पताल में हैं. बाकी सभी बातें अफवाह है.इस मामले में कर्नाटक के डिप्टी सीएम जी परमेश्वर ने कहा कि मैंने यह बात मीडिया के जरिए सुनी है. मैं वहां शनिवार को आठ बजे तक था. मुझे नहीं पता कि क्या हुआ था, लेकिन मैं आपको सब कुछ बताऊंगा. मैं बाहर आऊंगा तो मैं पक्का आपको बताऊंगा. वहीं, बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस के भीतर सब ठीक नहीं चल रहा है. इससे ज्यादा सबूत की क्या जरूरत. रिजॉर्ट में कांग्रेसी विधायकों के बीच मार पीट हुई जिसके बाद एक विधायक अस्पताल में भर्ती है.बीजेपी का आरोप है कि जेडीएस सरकार में कांग्रेस विधायक को जान का खतरा है. सिद्धारमैया बहुत उपदेश देते हैं. अब उन्हें आनंद सिंह पर हमले के जिम्मेदार पार्टी विधायक को तत्काल निलंबित करना चाहिए. संवैधानिक मूल्यों को बनाए रखने के लिए हम कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव और सिद्धारमैया से कार्रवाई करने की मांग करते हैं.

इससे पहले भाजपा विधायक आर अशोक ने बताया कि डीके शिवकुमार और डीके सुरेश झूठ बोलकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं. अपोलो अस्पतला के लोगों को बाहर आना चाहिए और उन्हें स्पष्ट देना चाहिए कि आनंद सिंह सीने में दर्द की वजह से अस्पताल में भर्ती हैं या फिर किसी और वजह से. पुलिस को इस पर स्वत: संज्ञान लेना चाहिए और जांच करनी चाहिए.कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार को गिराने के लिए बीजेपी ने ऑपरेशन लोटस 3 चलाया था. इसके ऑपरेशन से बचाने के लिए कांग्रेस ने अपने विधायकों को बेंगलुरु के एक रिजॉर्ट में ठहराया है. बता दें, इससे पहले भी बीजेपी दो बार जेडीएस सरकार गिराने की नाकाम कोशिश कर चुकी है.