उत्तर प्रदेश देश होम

लखनऊ : बिल्डरों ने युवक का अपहरण कर बनाया बंधक

फ्लैट बेचने के नाम पर गोरखधंधा फैलाए बिल्डरों के चंगुल में फंस कर युवक 18 लाख रुपए गंवा बैठा। करतूत उजागर होने पर पीड़ित रुपए वापस मांगने बिल्डर के ऑफिस पहुंचा। जहां बंधक बना कर पिटाई करते हुए रिवॉल्वर की बट से वार कर युवक का सिर फोड़ दिया। दबंगों के चंगुल से भागने में सफल रहे युवक के दोस्त ने पुलिस को वारदात की खबर दी। जिसके बाद इन्दिरानगर पुलिस ने दबिश देकर युवक को बंधनमुक्त कराया।

हमीरपुर निवासी मो. इकरार लखनऊ में फ्लैट खरीदना चाहते थे। इस सिलसिले में उनकी मुलाकात पानी गांव पैलेस निवासी फैसल वारसी व महमूद वारसी से हुई। बातचीत के बाद इकरार ने दो फ्लैट खरीदने की इच्छा जताई। उन्होंने बताया कि 25 लाख रुपए में फ्लैटों का सौदा तय हुआ। बतौर पेशगी इकरार ने बिल्डरों को 12 लाख रुपए अलग-अलग तारीखों में डायमण्ड अपार्टमेंट स्थित उनके ऑफिस में दिए।

वहीं, 6 लाख रुपए फैसल व महमूद के खाते में जमा किए गए। इकरार ने बताया कि बिल्डरों ने उन्हें एक फ्लैट का कब्जा दे दिया। इकरार उसमें शिफ्ट हो गए। काफी वक्त गुजरने के बाद भी बिल्डरों ने फ्लैट की रजिस्ट्री उनके नाम पर नहीं की। कई बार कहने के बाद भी वह टालमटोल करने लगे। इकरार ने बिल्डिंग के कागज मांगे तो आरोपितों ने उन्हें टरका दिया। फैसल व महमूद की हरकतों को देख इकरार ने पड़ताल शुरू की। छानबीन में पता चला कि बिल्डरों ने उन्हें जो फ्लैट बेचे हैं। उसका मालिकाना हक रहबर कामिल के पास है।

रिवॉल्वर की बट मार फोड़ दिया सिर
इकरार ने बताया कि ठगों के खेल की जानकारी होने पर उन्होंने रुपए लौटाने के लिए कहा। 16 जनवरी को इकरार दोस्त अंकुर संग बिल्डर के ऑफिस पहुंचे। जहां महमूद वारसी से मुलाकात हुई। उन्होंने रुपए लौटाने का दबाव बनाया। आरोप है कि महमूद ने उन्हें बातों में फंसा लिया। इस बीच उसने अपने भाई फैसल व दोस्तों को फोन कर दिया। कुछ ही देर में फैसल दर्जनों लोगों को साथ लेकर अपने ऑफिस पहुंच गया। हथियारों से लैस होकर पहुंचे बिल्डर के साथियों ने इकरार व अंकुर को पीटना शुरू कर दिया। इतने से भी मन नहीं भरा तो इकरार को गाड़ी में लाद कर इन्दिरानगर सेक्टर-15 स्थित एक मकान में ले जाया गया। जहां महमूद व फैसल ने रिवॉल्वर की बट से इकरार का सिर फोड़ दिया। खून से लथपथ इकरार उनसे रहम की गुहार लगाता रहा।

दबंगों के चंगुल से छूट, पुलिस को दी खबर
बिल्डर ने इकरार के साथी अंकुर को अगवा करने का प्रयास भी किया था। पर, वह किसी तरह से भाग निकला। इकरार के साथ हुई वारदात की खबर अंकुर ने इन्दिरानगर पुलिस को दी। युवक को बंधक बना कर पीटे जाने की जानकारी लगते ही इंस्पेक्टर अमित दुबे ने टीम संग सेक्टर-15 स्थित बिल्डरों के ठिकाने पर छापा मार दिया। जहां से इकरार को बंधनमुक्त कराया गया। इंस्पेक्टर के मुताबिक बदमाश फैसल, महमूद, फहद व उनके साथियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर छानबीन की जा रही है।