उत्तर प्रदेश करियर & जॉब देश होम

नहीं बदल पाएंगे उत्तर-पुस्तिका के पेज, हर पन्‍ने पर होगा रोल नंबर

नहीं बदल पाएंगे उत्तर-पुस्तिका के पेज, हर पन्‍ने पर होगा रोल नंबर

सरकार बोर्ड परीक्षा को फूलप्रूफ बना रही है। ऐसे में केंद्रों पर जहां नकल पर अंकुश रहेगा। वहीं मूल्यांकन का सिस्टम भी पारदर्शी होगा। इसके लिए कोड युक्त उत्तर पुस्तिका तो होंगी ही, वहीं छात्रों को अब हर पृष्ठ पर रोल नंबर भी अंकित करना होगा।

यूपी बोर्ड परीक्षा सात फरवरी से है। ऐसे में परीक्षा केंद्र, कक्ष निरीक्षक, सचल दल व उत्तर-पुस्तिका के रखरखाव को लेकर गाइड लाइन जारी कर दी गई हैं। वहीं माध्यमिक शिक्षा परिषद ने विद्यार्थियों को हर पृष्ठ पर अनुक्रमांक व उत्तर पुस्तिका क्रमांक अंकित करना अनिवार्य कर दिया है। विभाग की सचिव नीना श्रीवास्तव ने इसका दायित्व कक्ष निरीक्षक व केंद्र व्यवस्थापक का सौंपा है। वह उत्तर-पुस्तिका का संग्रह करने से पूर्व छात्रों से संबंधित प्रक्रिया पूर्ण कराना सुनिश्चित करेंगे। ऐसा होने से विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिका व पृष्ठ बदलने की गुंजाइश खत्म हो जाएगी। साथ ही मूल्यांकन के बाद स्क्रूटनी के केस कम हो जाएंगे। ऐसे में माध्यमिक शिक्षा संयुक्त निदेशक मंडल षष्ठ सुरेंद्र तिवारी ने सभी डीआइओएस को निर्देश जारी कर दिए हैं।यूपी बोर्ड वर्ष 2019 में 56.46 लाख विद्यार्थी परीक्षा देंगे। इसमें हाईस्कूल के 31.56 लाख व इंटर के 24.90 लाख परीक्षार्थी होंगे। यह परीक्षा 8,354 केंद्रों पर होगी। वहीं लखनऊ के 112 केंद्रों पर एक लाख के करीब परीक्षा देंगे।

 

यह भी दिए निर्देश

  • उत्तर पुस्तिका व पेपर के रखरखाव की व्यवस्था दुरुस्त हो
  • एक स्थाई पंजिका बनाएं, जिस पर उत्तर पुस्तिकाओं का क्रमांक दर्ज किया जाए
  • मुख्य स्टॉक सेंटर से लेकर कक्षा तक क्रम से पुस्तिका का वितरण हो
  • विद्यार्थियों को वेबसाइट पर उपलब्ध परीक्षा कार्यक्रम से अवगत कराया जाए
  • प्रत्येक परीक्षार्थी को उत्तर-पुस्तिका का क्रमांक उपस्थित शीट पर भी दर्ज करना होगा।