उत्तराखंड देश होम

उत्तराखंड समेत 6 राज्यों को झटका… लखवाड़ जलविद्युत परियोजना फिर अटकी

उत्तराखंड समेत 6 राज्यों को झटका... लखवाड़ जलविद्युत परियोजना फिर अटकी

उत्तराखण्ड को 300  मेगावाट बिजली और पांच अन्य राज्यों को पानी मिलने की गुंजाइश पर पानी फिर सकता है. दरअसल देहरादून में यमुना नदी पर बनने वाली लखवाड़ जल विद्युत परियोजना पर एक बार फिर सवालिया निशान लग गया है. एनजीटी के एनवायमेंटल एसेसमेंट फिर से करने और कई मुद्दों पर स्पष्टीकरण मांगने से इस परियोजना का काम एक बार फिर लटक गया है.

लखवाड़ जल विद्युत परियोजना से उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, यूपी और हिमाचल को पानी मिलना है. लेकिन सालों पहले शुरु की गई लखवाड़ जल विद्युत परियोजना का काम पूरा होता नहीं दिख रहा है. इस बार एनजीटी ने 2010 के नियम के मुताबिक पर्यावरणीय दृष्टि से दोबारा मूल्यांकन करने के आदेश दिए हैं  और 5 बिन्दुओं पर स्पष्टीकरण मांगते हुए राज्य सरकार को अप्रैल 2019 तक का वक्त दिया है.

एनजीटी के आदेश के बाद जल विद्युत परियोजना के काम पर ब्रेक लगने से इस परियोजना के जल्द पूरा होने की संभावना खत्म हो गई है. हालांकि ऊर्जा सचिव राधिका झा का दावा है कि एनजीटी को जवाब देने के लिए पूरी तैयारी है जल्द ही परियोजना का काम शुरू किया जाएगा.

लखवाड़ जल विद्युत परियोजना से प्रदेश को दोहरा लाभ होना है. एक तो प्रदेश को 300 मेगावाट बिजली मिलेगी और दूसरा 12.6 MCM पानी रोज़ मिलना था. उत्तराखण्ड के अलावा हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश को भी इस परियोजना से पानी मिलना है. इन सभी राज्यों के बीच इसके लिए एमओयू भी साइन हो चुका है.