उत्तर प्रदेश देश राजनीती होम

मायावती ने शिवपाल पर ली चुटकी तो हंसी नहीं रोक पाए अखिलेश

सपा और बसपा के बीच गठबंधन का ऐलान करते मायावती और अखिलेश (फोटो-ट्विटर)

बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन का ऐलान हो गया है. इस ऐलान के दौरान बसपा सुप्रीमो मायावती के एक बयान के दौरान पूरा प्रेस कॉन्फ्रेंस हाल ठहाकों से गूंज उठा. इस दौरान सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी अपनी हंसी रोक पाए. दरअसल, मायावती ने अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव पर चुटकी ली. हाल में शिवपाल ने सपा से अलग होकर अपनी नई पार्टी बनाई है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मायावती ने अखिलेश के चाचा और समाजवादी प्रगतिशील मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का जिक्र करते हुए कहा कि हमारे गठबंधन से डरकर बीजेपी अखिलेश यादव का नाम खनन घोटाले में घसीट रही है और सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है. बीजेपी की इस हरकत से सपा और बसपा का गठबंधन और मजबूत हुआ है और होगा. इसके साथ ही शिवपाल यादव पर पानी की तरह बहाया गया बीजेपी का पैसा भी बेकार चला जाएगा.

मायावती ने कहा कि पर्दे के पीछे से बीजेपी द्वारा चलाई जा रही शिवपाल यादव की पार्टी समेत मुस्लिमों, दलितों और पिछड़ों के नाम पर बनाई गई पार्टियों और बीजेपी के संगठन के द्वारा खड़े किए प्रत्याशियों को यूपी के लोग अपना वोट देकर बर्बाद नहीं करेंगे. यूपी की जनता हमारे पवित्र और भाईचारे पर आधारित गठबंधन को नुकसान नहीं पहुंचाएगी.

प्रदेश की जनता से गठबंधन के प्रत्याशियों को वोट देने की अपील करते हुए मायावती ने कहा कि सर्व समाज के लोग इन बिकी हुई पार्टियों को वोट नहीं देकर गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताएंगे. इससे ही सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय का सपना पूरा होगा.

बता दें, उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा का गठबंधन हो गया है. दोनों पार्टियां प्रदेश की 80 सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. बाकी दो सीटों को सहयोगी पार्टियों के लिए छोड़ा गया है. इसके अलावा अमेठी और रायबरेली सीट पर गठबंधन की ओर से कोई प्रत्याशी नहीं उतारा जाएगा.