देश राजनीती होम

नरेंद्र मोदी मेरे परिवार के खिलाफ जो बोलते हैं उसमें गुस्सा और नफरत है: राहुल गांधी

दो दिन के दौरे पर सऊदी अरब जाने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है। सऊदी की एक निजी वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि पीएम मोदी में काफी गुस्सा और नफरत है। साथ ही राहुल ने इस इंटरव्यू के दौरान यह भी कहा कि उन्होंने मोदी से कई चीजें सीखी हैं और उनका पहला लक्ष्य 2019 चुनाव में उन्हें हराना है। यही नहीं इंटरव्यू में राहुल ने यूपी में कांग्रेस को कम समझने को बड़ी भूल बताया और अकेले चुनाव लड़ने का भी संकेत दिया।राहुल ने आगे कहा, ‘नरेंद्र मोदी में काफी गुस्सा है और मेरे बारे में जो अधिकतर बातें वह बोलते हैं वह उनके गुस्से का ही नतीजा है। यहां ऐसी कई चीजें हैं जो वह कहते हैं और मैं सुनता हूं। उदाहरण के लिए मेरे परिवार के खिलाफ जिन शब्दों का वह इस्तेमाल करते हैं, उससे नफरत और गुस्सा झलकता है।’

वह कहते हैं, ‘वह बार-बार जताते हैं कि मैं एक परिवार से आता हूं जिसका मुझे फायदा है। यह सच है, मैं इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता कि मेरा परिवार राजनीति में था।’ राहुल आगे कहते हैं, ‘लेकिन हर कार्ड के दो पहलू होते हैं। नरेंद्र मोदी उस दर्द को नहीं देखते जो हमने झेला है, वह हिंसा नहीं देखते जिसके चलते मेरी दादी और पिता की हत्या हुई।’ उन्होंने आगे कहा, ‘मोदी में भी कुछ खासियत और कुछ कमियां हैं और सबसे बड़ी सीख मोदी ने जो मुझे दी है वह यह है कि अब मैं सुनता हूं, बहुत गहराई से।’ राहुल गांधी 11 जनवरी को दो दिन के दौरे पर सऊदी अरब जाने वाले हैं। इस इंटरव्यू में राहुल गांधी ने यूपी में कांग्रेस के अकेले चुनाव लड़ने के भी संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा, ‘कई ऐसी रोमांचक चीजें हैं जो कांग्रेस यूपी में कर सकती है। यूपी में कांग्रेस का विचार काफी पावरफुल है। इसलिए उत्तर प्रदेश में हमें अपनी क्षमताओं पर पूरा यकीन हैं और हम लोगों को चौंका देंगे।’ उन्होंने यह भी कहा, ‘हम विपक्ष को एक साथ लाने की कोशिश कर रहे हैं, मैंने मीडिया में कुछ बयान सुने हैं लेकिन हम साथ में काम करने जा रहे हैं और मोदी की हार सुनिश्चित करेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘मैं सिर्फ दोबारा यह कहना चाहता हूं- यूपी में कांग्रेस को कम आंकना बड़ी भूल है।’ इसे कांग्रेस अध्यक्ष का एसपी-बीएसपी पर निशाना माना जा रहा है। माना जा रहा है कि दोनों पार्टियां 37-37 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती हैं। फिलहाल दोनों ही दल रायबरेली और अमेठी को छोड़कर कोई और सीट कांग्रेस को देने के लिए तैयार नहीं नजर आ रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘हमारा पहला लक्ष्य नरेंद्र मोदी को हराना है। कई ऐसे राज्य हैं जहां हम काफी मजबूत है और बीजेपी को सीधे टक्कर दे रहे हैं। कई ऐसे राज्य हैं जहां गठबंधन की संभावनाएं हैं- महाराष्ट्र, झारखंड, तमिलनाडु, बिहार.. हम गठबंधन फॉर्म्युले पर काम कर रहे हैं।’