उत्तर प्रदेश देश होम

काम करवाने के लिए पुलिस पर झाड़ रहा था IAS अफसर होने का रौब, ऐसे पकड़ा

फर्जी आईएएस अफसर गिरफ्तार (फोटो : हिन्दुस्तान)

नोएडा पुलिस ने त्रिपुरा कैडर का आईएएस अफसर बनकर पुलिस थाने में फोन करके काम करवाने का प्रयास करने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि यह व्यक्ति किसी कंपनी में ड्राइवर है।

एसपी (ग्रामीण) विनीत जायसवाल ने शनिवार को बताया कि थाना बादलपुर पुलिस को एक व्यक्ति ने फोन किया और कहा कि वह 2005 बैच का त्रिपुरा कैडर का आईएएस अफसर विशाल कुमार बोल रहा है।

सर्विलॉन्स विधि से जांच में पकड़ा

न्यूज एजेंसी भाषा के अनुसार, एसपी ने बताया कि व्यक्ति ने स्वयं को त्रिपुरा में डीएम बताते हुए अपने एक परिचित का कोई काम करने के लिए कहा। बातचीत के दौरान उस पर संदेह होने पर जब सर्विलॉन्स विधि से जांच की गई तब पता चला कि अपने आप को त्रिपुरा का डीएम बताने वाला व्यक्ति गाजियाबाद में है।

काम कराने के लिए कई लोगों से पैसे लिए

उन्होंने बताया कि शनिवार को एक सूचना के आधार पर थाना बादलपुर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि उसका नाम मणि शंकर त्यागी है और वह एक कंपनी में कार चालक है। उक्त व्यक्ति ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि उसने खुद को आईएएस अफसर बताकर लोगों के काम करवाए और एवज में मोटी रकम ली है। उसका मोबाइल फोन जब्त कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।