देश होम

जिस ड्रग ने उड़ा रखी है अमेरिका की नींद, वो पकड़ाया भारत में

प्रतीकात्मक फोटो.

महाराष्ट्र पुलिस की एंटी-नारकोटिक्स सेल को बड़ी कामयाबी मिली है. वाकोला इलाके से एंटी-नारकोटिक्स सेल की टीम ने 100 किलो फेंटानिल नाम के खतरनाक सिंथेटिक ड्रग को चार लोगों से जब्त किया है. बताया जा रहा है कि इस ड्रग की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 1 हजार करोड़ रुपये है. इसे बेचने की फिराक में आरोपी विदेश जाने की तैयारी में थे, लेकिन इसके पहले ही वो एंटी-नारकोटिक्स के हत्थे चढ़ गए.

नारकोटिक्स विभाग के अनुसार, पकड़े गए आरोपियों में सलीम बोला(52), घनश्याम सरोज (43), चंद्रमणि तिवारी (41) और संदीप तिवारी हैं. ये सभी आरोपी ड्रग्स को दूसरे देशों में बेचने की फिराक में थे. फेंटानिल को आरोपियों ने ड्रम में छिपा रखा था.

बताया जाता है कि फेंटानिल इतनी खतरनाक है कि इसकी महज 0.002 ग्राम (2 मिलीग्राम) मात्रा ही किसी की जान ले सकती है. इसका इस्तेमाल पेन किलर बनाने में भी होता है.

एंटी-नारकोटिक्स के एक अफसर ने बताया कि यूरोप और यूएस में म्याऊ-म्याऊ और एमकैट ड्रग से भी इसे खतरनाक माना जाता है. इसके अलावा इसे चाइना वाइट, क्रश, डांस फीवर, चाइना गर्ल अपाचे, टांगो कैश, चाइना टाउन, फ्रेंड फीवर, ग्रेट बियर और मर्डर के नाम से भी जाना जाता है.

जांच में यह भी सामने आया है कि फेंटानिल ड्रग गुजरात और महाराष्ट्र बॉर्डर पर बनता है. वापी, पालघर और उमरगांव में इसे खुफिया तरीके से तैयार किया जाता है. भारत से इसकी सप्लाई इतने बड़े पैमाने पर होती है कि अमेरिका ने भारत को चिट्ठी लिखकर इस तरह के नशीले पदार्थों पर रोक लगाने तक की बात कही है. क्योंकि अमेरिका में 2016 में इसके ओवरडोज से 20 हजार और 2017 में 29 हजार लोगों की जान गई थी.

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब फेंटानिल भारत में पकडाया हो. इसके पहले मध्य प्रदेश, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और गुजरात में भी इसे बड़ी तादाद में जब्त किया जा चुका है. कोर्ट ने आरोपियों को 1 जनवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है. इनमें से सलीम बोला को इसके पहले भी एंटी नारकोटिक्स की टीम गिरफ्तार कर चुकी है.