उत्तर प्रदेश देश होम

अनुसूचित जाति के इन लोगों के हाथ में है CM योगी के ‘गोरखनाथ मंदिर’ की पूरी व्यवस्था

अनुसूचित जाति के इन लोगों के हाथ में है CM योगी के 'गोरखनाथ मंदिर' की पूरी व्यवस्था

देश के मंदिरों में अनुसूचित जाति के लोगों को प्रवेश देने को लेकर कई विवाद सामने आ चुके हैं. इन्हीं के बीच गोरखपुर का गोरखनाथ मंदिरएक ऐसा मंदिर है, जहां की व्यवस्था अनुसूचित जाति के लोगों के दम पर चलती है. दरअसल, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का एससी से ‘पुराना रिश्ता’ है. योगी का एससी प्रेम दिल से है या सिर्फ दिखावा? इसकी एक बानगी देखिए. आपको शायद ही इस बात की जानकारी हो कि गोरखनाथ मंदिर के वर्तमान मुख्य पुजारी कमलनाथ भी दलित हैं. योगी के बाद वो मंदिर का सबसे अहम चेहरा हैं. इसी समाज के लोग मंदिर के मुख्य पदों पर आसीन हैं. चाहे वह मंदिर के मुख्य पुजारी के रूप में बाबा कमल नाथ हों, या गौशाला के प्रभारी परदेशी राम. यही नहीं मंदिर का मुख्य रसोइया से लेकर मीडिया प्रभारी विनय गौतम भी अनुसूचित जाति के ही है

बता दें कि गोरखनाथ मंदिर उन मंदिरों की विचारधारा से अलग है, जहां एससी का प्रवेश वर्जित होता है. इस मंदिर की ओर से जात-पात के खिलाफ लंबे समय से अभियान चलाया जा रहा है. योगी आदित्यनाथ का वनटांगियों से भी खास लगाव है. सांसद रहते हुए योगी ने सड़क से संसद तक इनके अधिकारों की लड़ाई लड़ी. इन्हें नागरिक अधिकार देने का मामला संसद में उठाया. ज्यादातर वनटांगिया दलित और पिछड़े वर्ग से हैं. योगी 11 साल से उन्हीं के साथ दीपावली मनाते हैं.दलित समाज से जुड़े विनय गौतम गोरखनाथ पीठ के फोटोग्राफर जर्नलिस्ट हैं. मीडिया से समन्वय की जिम्मेदारी इन्हीं के पास है. विनय वर्ष 2007 से इस पीठ और योगी आदित्यनाथ की सेवा में लगे हुए हैं. विनय ने बताया कि देवीपाटन मंदिर के महंत मिथलेश नाथ दलित हैं. जो इसी नाथ पीठ से जुड़े हुए है. उन्होंने बताया कि मंदिर के अंदर कभी भी धर्म का श्रदालु दर्शन कर सकता है. ऐसे में यह कहा जा सकता है की गोरक्षनाथ मंदिर में दलित ही नहीं बल्कि सर्व समाज के लोगों के लिए हमेशा खुला रहा है.