देश राजनीती होम

देश भाजपा नहीं RSS चला रहा है, लोकसभा में मन की बात नहीं बोलने दी जाती थी :

सावित्री बाई फुले का निशाना: देश भाजपा नहीं RSS चला रहा है, लोकसभा में मन की बात नहीं बोलने दी जाती थी

भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा देने के बाद सांसद सावित्री बाई फुले ने भाजपा पर निशाना साधा है. उन्होंने रविवार को रमाबाई अम्बेडकर रैली स्थल में एक जनसभा में कहा कि देश कोआरएसएस चला रहा है. सावित्री बाई फूले ने कहा कि जब वह भाजपा में थी तो उन्हें लोक सभा के अन्दर अपने मन की बात बोलने नहीं दी जाती थी. कई मंत्रियों, सांसदों और आरएसएस प्रमुख द्वारा सुनने को मिलता कि राष्ट्र निर्माता भारत रत्न बाबा साहेब द्वारा लिखे गए संविधान को बदला जाएगा.उन्होंने कहा कि आरक्षण समाप्त करने की बात हो रही है. दिल्ली के जंतर-मंतर पर संविधान की प्रतियों को जलाया गया. हम अपना हक मांगेंगे नहीं बल्कि छीन लेंगे. साथ ही फूले ने कहा कि पिछले कई सालों से वह भारतीय संविधान और आरक्षण बचाने के लिए सामाजिक आन्दोलन चला रही हैं, जिससे समाज के पिछड़े वर्ग, दलित वर्ग एवं अल्पसंख्यक समाज को सामाजिक न्याय मिल सके.

उन्होंने कहा कि वह कई सालों से संविधान में दिए गए आरक्षण को सम्पूर्ण रूप से लागू करने की मांग करती आ रही हैं. इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री को चौकीदार नहीं बल्कि साझेदार कहा.

बता दें, सावित्री बाई फुले ने हालही में भारतीय जनता पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया है. भाजपा से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि ‘चौकीदार की नाक के नीचे गरीबों का पैसा लूटा जा रहा है. भाजपा और आरएसएस समाज को बांटने व संविधान को खत्म करने की कोशिश कर रही है.’साथ ही उन्होंने कहा था, ‘चौकीदार की नाक के नीचे गरीबों का पैसा लूटा जा रहा है. भाजपा और आरएसएस के लोग समाज को बांटने के काम में लगे हैं और बाबा साहेब के लिखे संविधान के साथ छेड़छाड़ कर उसे खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं. विकास पर ध्यान न देकर मूर्तियां बनवाई जा रही हैं और अल्पसंख्यक व अनुसूचित वर्ग को धोखा दिया जा रहा है. इसलिए मैं बाबा साहेब के परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं, लेकिन सांसद बनी रहूंगी.’