होम

मकबरे के पास जमीन पर चलने से आती थी आवाजें, साइंटिस्ट्स ने खुदाई की तो सामने आया 4400 साल पुराना राज

इजिप्ट. मिस्त्र में आर्कियोलॉजिस्ट ने इलाके में एक नया मकबरा खोजा है। दरअसल, यहां के एक पुराने पिरामिड के पास जमीन पर चलने से अजीब सी आवाज आ रही थी। आर्कियोलॉजिस्ट्स समझ गए कि जिसे वो सिर्फ रास्ता समझ रहे हैं, उस जमीन के नीचे कुछ तो जरूर है। बिना देर किए पुरातत्व विभाग की टीम यहां खुदाई में लग गई, जो चीजें सामने आईं उसे देखकर पूरा मिस्त्र हैरान है। मिस्त्र के संस्कृति मंत्रालय के एक ऑफिशियल मुस्तफा वजीरी ने कहा कि ये पिछले कुछ दशकों में हुई अपने आप में अनूठी खोज है। ये मकबरा राजधानी काहिरा के सक्कारा प्रांत के एक पिरामिड के पास मिला है। मकबरे के अंदर बनी रंगबिरंगी नक्काशी और फैरो की भीमकाय मूर्तियां देखने लायक हैं।एक्सपर्ट्स का मानना है कि पिरामिड के करीब जमीन के ऊपरी हिस्से से आवाज दो वजहों से आ रही थी। एक ये कि जमीने के नीचे काफी हिस्सा खाली था वहीं कुछ जगहों से यहां हवा जाने से अजीब सी आवाजें आ रही थीं।एक्सपर्ट्स ने बताया कि यहां उस दौर का सबसे बड़े पुजारी या धर्मगुरु रहता था। उनका नाम वाह्त्ये था। चित्रों में वाहत्ये अपनी मां, पत्नी और परिवार के साथ बैठे दिख रहे हैं। अंदर चीजों इतनी सुरक्षित हैं, जिसे देखकर साफ कहा जा सकता है कि पिछले 4400 सालों से ये अछूता है।एक्सपर्ट अब आगे इस मकबरे में खुदाई शुरू करेंगे और उन्हें इसके अंदर कुछ और चीजें मिलने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि उस दौर के सबसे बड़े धर्मगुरु की कब्र भी यहां मिल जाएगी। मिस्त्र में उस दौर में पुजारियों और धर्मगुरुओं का विशेष महत्व था, उनके जरिए मिस्त्र के भगवान को खुश करने की कोशिश की जाती थी।