देश राजनीती होम

अकाली दल दो-फाड़, पार्टी से निकाले गए नेताओं ने बनाया नया राजनीतिक दल

श‍िरोमणी अकाली दल टकसाली (Photo:PTI)

पंजाब में दो दशकों तक लगातार शासन करने वाला अकाली दल अब दो फाड़ हो गया है. रविवार को पार्टी से निकाले गए आधा दर्जन नेताओं ने अपना नया राजनीतिक संगठन बना लिया. पार्टी से निकाले गए रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा, रतन सिंह अजनाला, सेवा सिंह सेखवां ,रविंद्र ब्रह्मपुरा और अमरपाल सिंह बोनी ने रविवार को अमृतसर में अपनी पार्टी शिरोमणि अकाली दल टकसाली की घोषणा की.

पार्टी की घोषणा करने के बाद रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा और रविंद्र ब्रह्मपुरा ने बादल पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने अकाली दल को पारिवारिक जायदाद समझ कर उसे निजी स्वार्थों की पूर्ति और परिवारवाद को बढ़ावा देने के लिए इस्तेमाल किया जिससे न केवल पार्टी की साख पर बट्टा लगा बल्कि इस पर लोगों का भरोसा भी कम हुआ है

उधर, पार्टी के पुराने नेताओं द्वारा नए राजनीतिक संगठन की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अकाली दल के महासचिव और प्रवक्ता डॉ. दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि नए संगठन से अकाली दल का कोई नुकसान नहीं होगा क्योंकि यह संगठन कुछ ऐसे लोगों द्वारा खड़ा किया गया है जो न केवल अवसरवादी हैं बल्कि खुद परिवारवाद को बढ़ावा देते आए हैं.

उधर, कांग्रेस ने अकाली दल के दो फाड़ होने के बाद चुटकी लेते हुए कहा है कि धर्म का राजनीतिक इस्तेमाल करने वाले अकाली दल का पतन शुरू हो गया है. कांग्रेस के अमृतसर सांसद गुरजीत औजला ने कहा कि अकाली दल अपने उद्देश्य से भटक गया है. इसलिए लोग अब इस पार्टी पर यकीन नहीं करते. मजबूरन पार्टी से निकाले गए नेताओं को नया संगठन बनाना पड़ा.

गौरतलब है कि पिछले दो महीनों के दौरान अकाली दल के कई वरिष्ठ नेता एक-एक करके पार्टी को अलविदा कह गए. पुराने नेताओं द्वारा पार्टी को अलविदा कहने से घमासान मचा हुआ है. बरगाड़ी गोली कांड पर अकाली दल की पोल खुलने के बाद पार्टी पहले ही बैकफुट पर है. अब पार्टी के कुछ पुराने नेताओं द्वारा नया अकाली दल बनाने की घोषणा से पार्टी प्रमुख प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर बादल की मुश्किलें बढ़ गई हैं.