देश होम

पुलवामा: मुठभेड़ के दौरान झड़प में 6 की मौत, हिज्बुल कमांडर जहूर ठोकर समेत 3 आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान स्थानीय लोगों से सुरक्षाबलों की झड़प हो गई। इस दौरान हुई फायरिंग में तीन आतंकियों और छह नागरिकों के मारे जाने की खबर है। आतंकियों के खिलाफ अभियान में सुरक्षाबलों को शनिवार को उस वक्त बड़ी कामयाबी मिली, जब पुलवामा में हुए एनकाउंटर में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर जहूर ठोकर को मार गिराया गया। मुठभेड़ के दौरान एक जवान भी शहीद हो गया। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय राइफल्स के जवान औरंगजेब की हत्या में जहूर का नाम सामने आया था। ऐसे में इसे सुरक्षाबलों के लिए बड़ी सफलता के रूप में देखा जा रहा है। मुठभेड़ के दौरान हिज्बुल के तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया। शनिवार तड़के सुरक्षाबलों को खबर मिली कि पुलवामा के सिरनू गांव में दो से तीन आतंकी छिपे हुए हैं। आतंकियों की मौजूदगी का इनपुट मिलने के बाद सेना, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन शुरू किया और आतंकियों को घेर लिया। घंटों चली मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने हिज्बुल कमांडर जहूर ठोकर समेत तीन आतंकियों को मार गिराया। आतंकी संगठन में शामिल होने से पहले जहूर टेरिटोरियल आर्मी से जुड़ा हुआ था। मुठभेड़ के दौरान एक जवान भी शहीद हो गया। पुलवामा में मुठभेड़ स्थल के पास सुरक्षाबलों के साथ स्थानीय लोगों की झड़प हो गई। मुठभेड़ का विरोध कर रहे लोगों ने इस दौरान सुरक्षाबलों पर पथराव किया। इसके बाद हालात पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों ने कई राउंड फायरिंग की। आमिर अहमद और आबिद हुसैन नाम के दो युवकों को बुलेट इंजरी आई थी। अस्पताल लाए जाने पर उन्हें डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों का कहना है कि गोली लगने से घायल कई नागरिकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान चार लोगों ने दम तोड़ दिया। इस झड़प के बाद से इलाके में हालात तनावपूर्ण हैं और पुलवामा में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को सस्पेंड किया गया है। इसके साथ ही जम्मू इलाके में बनिहाल टाउन से कश्मीर घाटी के लिए रेल सेवाओं को भी रद्द कर दिया गया है।

आपको बता दें कि इससे पहले बुधवार को बारामुला में भी सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया था। सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद बुधवार शाम को सोपोर के बर्थ कलां इलाके की घेराबंदी की और सर्च ऑपरेशन चलाया। इस दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए थे। जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2018 के दौरान आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबलों का अभियान काफी तेजी से चल रहा है। अनुमान है कि इस साल 250 से ज्यादा आतंकियों को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया गया है। इनमें से 132 स्थानीय आतंकी बताए जा रहे हैं। वहीं, आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के तकरीबन 80 आतंकियों को एक साल के दौरान अलग-अलग मुठभेड़ों में ढेर कर दिया गया।