देश होम

संसद शीतकालीन सत्र: लोकसभा गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्‍थगित

संसद शीतकालीन सत्र: लोकसभा गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्‍थगित

लोकसभा गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्‍थगित कर दी गई है। इससे पहले तृणमूल कांग्रेस ने राज्यसभा में नियम 267 के तहत नोटिस देकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया(आरबीआइ) जैसे संस्‍थानों पर खतरे के मुद्दे पर तुरंत चर्चा करने की मांग की। इधर कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन ने आरबीआइ और नोटबंदी के मुद्दों को लेकर लोकसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया। वहीं कांग्रेस सांसद सुनील कुमार जाखड़ ने राफेल मुद्दे को लेकर लोकसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया।

मंगलवार को संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत अटल बिहारी वाजपेयी, सोमनाथ चटर्जी, अनंत कुमार जैसे कई दिवंगत सांसदों और पूर्व सांसदों को श्रद्धांजलि के साथ हुई। लोकसभा और राज्यसभा में इन सभी दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी और इसके बाद संसद के दोनों सत्रों का कामकाज बुधवार सुबह तक के लिए स्थगि‍त कर दिया गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया है कि सरकार विपक्ष के साथ हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले यह अंतिम पूर्ण संसद सत्र होगा। संसद के शीतकालीन सत्र में हंगामे के पूरे आसार हैं। माना जा रहा है कि इस सत्र में सरकार तीन तलाक, उपभोक्ता संरक्षण, डीएनए, चिट फंड, गैर कानूनी गतिविधियां रोकथाम जैसे विधेयकों सहित करीब तीन दर्जन विधेयक पारित कराना चाहती है। बताया जा रहा है कि इसमें 20 विधेयक नए हैं, जबकि बाकी सदन में पहले ही पेश किए जा चुके हैं।सरकार राज्यसभा में लंबित ‘ट्रिपल तलाक’ बिल के पारित होने के लिए विपक्ष पर दबाव डालेगी। इसने तत्काल ट्रिपल तलाक को दंडनीय अपराध का अभ्यास करने के लिए एक अध्यादेश जारी किया था। सरकार इस सत्र में भारतीय मेडिकल काउंसिल संशोधन अध्यादेश और कंपनियों के संशोधन अध्यादेश को बिल के रूप में पारित करना चाहती है। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पार्टी राफेल के मुद्दे से लेकर रिजर्व बैंक की ऑटोनॉमी का मुद्दा उठाएगी। ऐसे में पूरे आसार हैं कि सत्र में कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल भी कृषि एवं किसानों की समस्याओं, सीबीआई रार जैसे मुद्दों पर सरकार का घेराव करें। इसके अलावा बुलंदशहर हिंसा का मामला भी सदन में उठ सकता है।