देश राजनीती होम

Rajasthan Election : अबकी बार कांग्रेस सरकार

Rajasthan Polls Results

राजस्थान विधानसभा चुनाव के रुझानों में कांग्रेस फिर बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है. कांग्रेस 102 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि बीजेपी 72 सीटों, बीएसपी 6 सीटों समेत अन्य 25 सीटों पर आगे चल रही हैं. अगर अभी तक घोषित नतीजों की बात करें, तो बीजेपी को 44 सीटों, कांग्रेस को 64, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्‍ससिस्‍ट) को एक, राष्ट्रीय लोक दल को एक, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को एक और निर्दलीयों को पांच सीटों पर जीत मिल चुकी है.

दिग्गज नेताओं में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे झालरापाटन, टोंक से सचिन पायलट और सरदारपुरा से अशोक गहलोत जीत दर्ज कर चुके हैं. वहीं बीजेपी में मौजूदा गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया उदयपुर से आगे चल रहे हैं. झालरापाटन से बीजेपी के दिग्गज नेता रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह की हार हुई है. प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मानवेंद्र सिंह को पटखनी दी है. बता दें कि मानवेंद्र सिंह हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए थे और कांग्रेस ने उन्हें शिव विधानसभा सीट के बजाय राजे के सामने उतारा था.

इस बार राजस्थान में अन्य भी निर्णायक भूमिका में नजर आ रहे हैं. इन उम्मीदवारों में किशनगढ़ से सुरेश टाक (निर्दलीय), खंडेला से महादेव सिंह खंडेला, खींवसर से हनुमान बेनिवाल, गंगापुर से रामकेश, थानागाजी से कान्ति प्रसाद, दूदू से बाबूलाल नागर, नगर से वाजिब अली, फलौदी से कुम्भसिंह, बस्सी से लक्ष्मण मीणा, बहरोड़ से बलजीत यादव, भरतपुर से दलवीर सिंह, भादरा से बलवान पूनियां, भोपालगढ़ से पुखराज, मेड़ता से इन्दिरा देवी, श्रीडूंगरगढ़ से गिरधारीलाल, सिरोही से संयम लोढ़ा का नाम शामिल है.

राजस्थान में कांग्रेस की जीत से गदगद अशोक गहलोत ने कहा कि ये कांग्रेस की शानदार जीत है. हम तीन राज्यों में सरकार बना रहे हैं. इससे बेहतर क्या हो सकता है. गुजरात में जिस तरह से राहुल गांधी ने पीएम मोदी और अमित शाह का मुकाबला किया, उसके बाद से कांग्रेस का ग्राफ बढ़ा. वहीं, पीएम मोदी का ग्राफ लगातार नीचे जा रहा है.

सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि मुख्यमंत्री का मामला आपके सामने नहीं कहूंगा और यह राहुल गांधी की मेहनत है. साथ ही गहलोत आश्वस्त हैं कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनेगी. साथ ही गहलोत ने कहा,’अगर निर्दलीय हमारे साथ आएं तो स्वागत और बहुमत होने पर भी गैर बीजेपी दलों का स्वागत किया जाएगा. बीजेपी ने बिना मुद्दे के चुनाव लड़ा और राजस्थान में कांग्रेस को जनादेश मिला.’

वहीं सचिन पायलट ने कहा कि राजस्थान में पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी और उन्होंने आशीर्वाद के लिए जनता का शुक्रिया अदा किया. साथ ही पायलट ने कहा, ‘मुख्यमंत्री पद पर फैसला आलाकमान की ओर से किया जाएगा. हमनें राहुल के नेतृत्व में 5 साल काम किया है और राहुल जी के लिए तोहफे की तरह है.’ इसके अलावा बीजेपी के एकमात्र मुस्लिम उम्मीदवार युनूस खान भी टोंक से पीछे चल रहे हैं.

झोटवाड़ा से लालचंद कटारिया (कांग्रेस), हवामहल से महेश जोशी (कांग्रेस), विद्याधर नगर से नरपत सिंह राजवी (बीजेपी), सिविल लाइंस से प्रताप सिंह खाचरियावास (कांग्रेस), किशनपोल से अमीन कागजी (कांग्रेस), आदर्श नगर से रफीक खान (कांग्रेस), मालवीय नगर से अर्चना शर्मा (कांग्रेस), सांगानेर से अशोक लाहोटी (बीजेपी) आगे चल रहे हैं.200 विधानसभा वाले राजस्थान की 199 सीटों पर 7 दिसंबर को वोटिंग हुई थी. बता दें कि सबसे पहले पोस्टल बैलेट की वोटिंग की जाती है और उसके बाद ईवीएम से गिनती की जाती है. इस बार चुनाव अधिकारी हर दौर के रुझान की जानकारी लिखित में देंगे.प्रदेश की रामगढ़ सीट पर बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह के निधन हो जाने से यहां वोटिंग स्थगित हो गई और प्रदेश की 199 सीटों पर ही वोटिंग हुई. सूबे में कांग्रेस के 194, भारतीय जनता पार्टी के 199, बहुजन समाज पार्टी के 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का 01, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के 16 और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के 28 उम्मीदवार अपनी दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं. वहीं 830 निर्दलीय चुनावी मैदान में है.