उत्तर प्रदेश देश राजनीती होम

शिवपाल की रैली से विपक्ष को हुआ उनके ताकत का एहसास, महागठबंधन का मिला आमंत्रण

राजधानी लखनऊ में जनाक्रोश रैली में भीड़ जुटाकर ताकत का एहसास कराने वाले प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के संयोजक शिवपाल यादव दिल्ली में होने वाली महागठबंधन की बैठक में पहुंचे. लखनऊ की रैली के बाद शिवपाल को महागठबंधन की बैठक का आमंत्रण मिला था. सपा संरक्षक मुलायम सिंह भी बैठक में पहुंचे हैं.

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का मुकाबला करने के लिए महागठबंधन बनाने पर चर्चा करने के लिए सोमवार को दिल्ली में शीर्ष विपक्षी नेताओं की बैठक हो रही है. तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू इस बैठक का समन्वय कर रहे हैं. उन्होंने सभी गैर-भाजपा दलों के नेताओं को आमंत्रित किया है. शिवपाल यादव को भी आमंत्रित किया गया है.

इस बैठक में कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की अध्यक्ष सोनिया गांधी के भी बैठक में भाग लेने की उम्मीद है. वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की प्रमुख ममता बनर्जी, नेशनल कांफ्रेंस (एसी) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के महासचिव एस. सुधाकर रेड्डी के भी बैठक में भाग लेने की उम्मीद है.

हालांकि सपा मुखिया अखिलेश यादव ने सोमवार को न्यूज18 से खास बातचीत में साफ कर दिया कि वे इस बैठक में शामिल नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि पिछले लंबे समय से कई विपक्षी दल बीजेपी को रोकने के लिए महागठबंधन पर चर्चा कर रहे हैं. मुझे लगता है यह अच्छी शुरुआत है. आगे भी महागठबंधन को लेकर बैठक होनी चाहिए.