देश राजनीती होम

नतीजों से पहले ही बीजेपी का ऐलान: तेलंगाना में हमारे बिना सरकार नहीं, हम होंगे सत्ता में शामिल

चुनाव के नतीजों से पहले ही बीजेपी का ऐलान: तेलंगाना में हमारे बिना सरकार नहीं, हम होंगे सत्ता में शामिल

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणाम आने में महज अब दो दिन दूर हैं, मगर एग्जिट पोल के नतीजों से ने ये संकेत दे दिये हैं कि किस राज्य में किसकी सरकार बन सकती है. तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए जारी एग्जिट पोल के नतीजे न तो बीजेपी के लिए अच्छे हैं और न ही कांग्रेस के लिए. क्योंकि एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स में भी ऐसे संकेत हैं कि केसीआर यानी के चंद्रशेखर राव की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) एक बार फिर से सत्ता में वापसी कर सकती है. मगर जिस तरह से बीजेपी दावा कर रही है, उससे अब यह सवाल उठने लगे हैं कि क्या बीजेपी तेलंगाना के सत्ता में आएगी?दरअसल, तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष के लक्ष्मण ने संकेत दिए हैं कि अगर राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलते हैं तो ऐसी स्थिति में बीजेपी सरकार का हिस्सा हो सकती है. मतलब इशारा साफ है कि बीजेपी गठबंधन कर सत्ता में किसी तरह आने की कोशिश करेगी. बता दें कि तेलंगाना में इससे पहले टीआरएस की सरकार थी और केसीआर मुख्यमंत्री थे. तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि ‘तेलंगाना में बीजेपी के बिना सरकार नहीं बन सकती. अगर किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलते हैं, तो ऐसी स्थिति में बीजेपी सरकार का हिस्सा होगी. हम कांग्रेस या एआईएमआईएम को समर्थन नहीं देंगे, मगर अन्य विकल्प खुले हुए हैं. अपने हाई कमांड से चर्चा करने के बाद निर्णय लिया जाएगा.’ बता दें कि राज्य में चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे और उसके बाद ही तस्वीर स्पष्ट होगी कि वहां किसकी सरकार बनेगी. बहरहाल, एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स के मुताहिक, तेलंगाना में टीआरएस फिर से वापसी करती दिख रही है. टीआरएस को 67 सीटें, कांग्रेस को 39 और बीजेपी को 5 सीटें मिलती दिख रही है. वहीं अन्य के खाते में 8 सीटें गई हैं. बता दें कि यहां बहुमत के लिए 60 सीटों की जरूरत होती है और कुल विधानसभा सीटों की संख्या 119 है. इतना ही नहीं, अन्य चैनलों के एग्जिट पोल के परिणामों में तेलंगाना में सत्ताधारी, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को सत्ता में बरकरार रहने की संभावना जताई गई है. इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया एक्जिट पोल में 119 सदस्यीय विधानसभा में टीआरएस को 79-91 सीटें दी गई हैं, जबकि कांग्रेस नेतृत्व वाले गठबंधन को 21-33 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन एआईएमआईएम को 4-7 सीटें और भाजपा को 1-3 सीटें दी गई हैं.तेलंगाना बीजेपी के बयान से यह स्पष्ट हो गया है कि भाजपा तेलंगाना में सत्ता से दूर नहीं रहना चाहती है. वह भले ही कांग्रेस या ओवैसी की पार्टी को समर्थन न दे, मगर केसीआर की पार्टी टीआरएस को अपना समर्थन जरूर दे सकती है, क्योंकि एग्जिट पोल में टीआरएस सबसे बड़ी पार्टी है. के लक्ष्मण ने चुनाव के नतीजे आने के पहले ही संकेत दे दिया है कि वह तेलंगाना में सरकार का हिस्सा जरूर बनना चाहेगी.