देश राजनीती होम

तेलंगाना में KCR का जादू बरकरार, BJP को जोर का झटका : Exit polls

मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (फाइल, PTI)

मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) का तेलंगाना में समय से पूर्व विधानसभा चुनाव कराने का दांव चल गया लगता है. इंडिया टुडे एक्सिस माय इंडिया एग्जिट पोल के सर्वे में केसीआर की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में लौट रही है. हालांकि बीजेपी को इस राज्य में भी बड़ा झटका लगने जा रहा है.इंडिया टुडे एक्सिस माय इंडिया एग्जिट पोल के सर्वे में 119 सदस्यीय तेलंगाना विधानसभा में केसीआर की पार्टी को 79 से 91 के बीच सीटें मिल सकती हैं. जबकि कांग्रेस और टीडीपी गठबंधन को कोई खास फायदा होता नहीं दिख रहा. गठबंधन को 21 से 33 सीटें मिल सकती हैं.वहीं तेलंगाना में जमकर प्रचार करने वाली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का प्रदर्शन पिछली बार से भी कम हो सकता है. इस बार उसे 1 से 3 सीटें मिल सकती हैं. पिछली बार उसके खाते में 5 सीटें आई थीं.दूसरी ओर, सर्वे में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM को 4 से 7 सीटें मिल सकती हैं. हालांकि पिछली बार उसके खाते में 7 सीटें आई थीं. ओवैसी ने इस बार राज्य में जमकर प्रचार किया था, लेकिन यह उनके सीटों की संख्या बढ़ती नहीं दिख रही है.

राज्य में हुए चुनाव के आधार पर मिले वोट शेयर की बात की जाए तो टीआरएस को 46 फीसदी वोट मिलने की संभावना है. कांग्रेस गठबंधन को 37 फीसदी और बीजेपी को 7 फीसदी वोट मिल सकता है. ओवैसी को पार्टी को 3 फीसदी वोट मिलने के आसार जताया गया है.

2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान आंध्र प्रदेश और तेलंगाना एक ही राज्य थे. राज्य का बंटवारा होने के बाद तेलंगाना के हिस्से में 119 सीटें आईं. इनमें तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को 63 और कांग्रेस के हिस्से में 21 सीटें आईं थीं. जबकि टीडीपी को 15 सीटें मिली थीं. बीजेपी को तब 5 और ओवैसी की पार्टी को 7 सीटें मिली थीं.इस बार राज्य में कांग्रेस-टीडीपी गठबंधन और टीआरएस में कांटे की लड़ाई है. कांग्रेस और टीआरएस दोनों ही पार्टियां राज्य के निर्माण का श्रेय लेना चाहती हैं. इसे देखते हुए कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने केवल तेलंगाना में ही सभा भी की. कांग्रेस को लगता है कि केंद्र में यूपीए सरकार के दौरान उसने राज्य का निर्माण किया. चंद्रशेखर राव पहले तो कांग्रेस को श्रेय देते रहे, लेकिन बाद में उन्होंने इसका सारा श्रेय अपने नाम कर लिया.

समय से पहले ही मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने विधानसभा भंग करने की सिफारिश भी कर दी. तेलंगाना में शुक्रवार 7 दिसंबर को वोटिंग हुई. 11 दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे.