देश होम

Jio के खिलाफ ‘महागठबंधन’ बनाएंगी Airtel और Vodafone-Idea

रिलायंस जियो से मिल रही चुनौती का मुकाबला करने के लिए आइडिया और वोडाफोन पहले ही मिलकर एक हो चुके हैं, लेकिन अब टेलीकॉम सेक्टर में एक ऐसा महागठबंधन बनने जा रहा है जो जियो को तगड़ी चुनौती देगा. भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जियो को टक्कर देने के लिए फाइबर नेटवर्क साझा करने पर विचार कर रहे हैं. बस कुछ योजना के मुताबिक रहा तो आने वाले दिनों में वो एक साझा फाइबर नेटवर्क की शुरुआत कर सकते हैं.एयरटेल के एक शीर्ष अधिकारी ने इकनॉमिक टाइम्स को बताया, ‘हमें इस साझेदारी और एक कंपनी बनाने की खुशी है. हम वोडाफोन आइडिया के साथ पहले ही मिलकर काम कर रहे हैं.’ जियो के सस्ते डेटा ऑफर्स के बाद कई छोटी कंपनियां खत्म हो चुकी हैं, जबकि वोडाफोन और आइडिया ने आपस में विलय कर लिया.भारती एयरटेल अब कस्टमर बेस की जगह कमाई बढ़ाने पर ध्यान दे रही है. इसलिए उसका फोकस प्रीमियम कस्टमर पर है. दूसरी ओर रिलायंस जियो के पास देश भर में हाई स्पीड फाइबर नेटवर्क है. रिलायंस जल्द ही जियो गीगाफाइबर नाम से ब्राडबैंड सर्विस शुरू करने जा रहा है, जिसके बाद माना जा रहा है कि इस सेग्मेंट में भी प्राइव वार तेज हो जाएगा. रिलायंस ने अभी नहीं बताया है कि उसकी ब्राडबैंड सेवाओं का शुल्क क्या होगा. लेकिन अगर एयरटेल और वोडाफोन आइडिया फाइबर नेटवर्क शेयर करते हैं, तो ये साफ हो जाएगा कि दोनों कंपनियों के बीच जारी जंग अभी जारी रहेगी.अब ये साफ हो रहा है कि टेलीकॉम कंपनियों के बीच जारी जंग का असर निम्न आय वर्ग के ग्राहकों पर नकारात्मक होगा. एयरटेल पहले ही कह चुका है कि अब उसकी सेवाएं लेने के लिए ग्राहकों के हर महीने कम से कम 35 रुपये का रीचार्ज कराना होगा. यानी मुफ्त में इनकमिंग के दिन अब लद जाएंगे. जियो अनलिमिटेड कॉलिंग की सुविधा तो देता है, लेकिन मुफ्त इनकमिंग की सुविधा यहां भी नहीं है. हालांकि थोड़ा खर्च करने वाले मीडियम और हाईएंड ग्राहकों के लिए इस जंग में फायदा ही नजर आ रहा है.