उत्तराखंड देश होम

यूटीईटी के नौ हजार आवेदन कर दिए गए निरस्त

यूटीईटी के कई आवेदकों को लगा बड़ा झटका, नौ हजार आवेदन कर दिए गए निरस्त

उत्तराखंड अध्यापक पात्रता परीक्षा (यूटीईटी) की तैयारी कर रहे नौ हजार परीक्षार्थी पहले ही परीक्षा से बाहर हो गए। उनके आवेदन कई खामियों के चलते उन्हें निरस्त कर दिए गए हैं। परीक्षा उत्तराखंड में 14 दिसंबर को निर्धारित है।
प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए यूटीईटी प्रथम व जूनियर शिक्षक बनने के लिए टीईटी द्वितीय की परीक्षा पास करना अनिवार्य है। ऐसे में उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद को डाक से दोनों परीक्षाओं के लिए आवेदन पत्र मिले थे। सामान्य व अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों की एक परीक्षा का शुल्क छह सौ रुपये, दो परीक्षा के लिए एक हजार एवं अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति तथा दिव्यांग के लिए एक परीक्षा का शुल्क तीन सौ व दो के लिए पांच सौ रुपये था। आवेदन पत्रों की जांच के दौरान उनमें कई त्रुटियां मिली थी। हालांकि परिषद ने त्रुटिपूर्ण आवेदन की सूची वेबसाइट में अपलोड कर उसमें सुधार के लिए अभ्यर्थियों को 14 नवंबर तक मौका दिया था। अंतिम तिथि खत्म होने के बाद अब दोबारा जांच में 9060 आवेदन पत्र अलग-अलग कारण से निरस्त कर दिए गए हैं। टीईटी प्रथम में 5665 व द्वितीय में 3395 आवेदन निरस्त हुए हैं। यह आवेदन पत्र अपूर्ण होने, परीक्षा कोड अंकित नहीं होने, कम मूल्य के आवेदन पत्र पर आवेदन, एक शुल्क पर दो परीक्षाओं के लिए आवेदन, दूसरी श्रेणी का आवेदन पत्र भरने जैसी तमाम कारणों से निरस्त किए गए
हैं। परिषद की सचिव डॉ. नीता तिवारी ने बताया कि निरस्त आवेदनों की सूची विभागीय वेबसाइट में अपलोड कर दी गई है। प्रदेश में 104670 देंगे टीईटी की परीक्षा यूटीईटी की परीक्षा के लिए उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने तैयारी शुरू कर ली है। 14 दिसंबर को होने वाली परीक्षा के लिए प्रदेश के 29 शहरों में 165 केंद्र बनाए गए हैं, जिसमें 104670 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। इसमें टीईटी प्रथम में 49576 व द्वितीय में 55094 अभ्यर्थी शामिल हैं। टीईटी प्रथम की परीक्षा प्रात: दस बजे से साढ़े 12 बजे तक जबकि द्वितीय की परीक्षा अपराहन दो बजे से साढ़े चार बजे तक होगी।
परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को अपने प्रवेश पत्र वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.यूबीएसई.यूके.जीओवी. इन से डाउनलोड कर सकते हैं। यदि प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीें होगा तो वह 11 से 13 दिसंबर को परीक्षा शहर में बने नोडल परीक्षा केंद्र से प्रवेश पत्र प्राप्त कर सकता है। देहरादून में 17495 अभ्यर्थियों के लिए सर्वाधिक 28 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। जबकि नरेंद्र नगर में 220 अभ्यर्थियों के लिए महज एक परीक्षा परीक्षा केंद्र बनाया गया है।रामनगर, हल्द्वानी, नैनीताल, रूद्रपुर, काशीपुर, गरूड़, बागेश्वर, रानीखेत, अल्मोड़ा, टनकपुर, चंपावत, डीडीहाट, बेरीनाग, पिथौरागढ़, अगस्त्यमुनि, रूद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, गोपेश्वर, कोटद्वार, श्रीनगर, पौड़ी, नरेंद्रनगर, नई टिहरी, बड़कोट, उत्तरकाशी, ऋषिकेश, देहरादून, रूड़की व हरिद्वार में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।