देश होम

सेना प्रमुख बोले- 1947 से भारत में आतंकवाद को प्रायोजित कर रहा है पाकिस्तान

जनरल बिपिन रावत, सेना प्रमुख (फोटो-Twitter/@adgpi)

पाकिस्तान में ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे की आधारशिला बुधवार को वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रखी. इस मौके पर पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा की तस्वीर खालिस्तानी समर्थक गोपाल सिंह चावला के साथ देखे जाने के बाद विवाद खड़ा हो गया. भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि सरकार ने साफ कहा है कि इस कार्यक्रम को अलग करके देखना चाहिए और इसे किसी और मामले से नहीं जोड़ना चाहिए. जैसा कि सब जानते हैं कि पाकिस्तान की धरती से प्रायोजित आतंकवाद को वहां की खुफिया एजेंसी का समर्थन है.

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने रक्षा अनुसंधान और विश्लेषण संस्थान (IDSA) के 9वें वाईबी चव्हाण स्मृति व्याख्यान के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यह सब जानते हैं कि पाकिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर से चलने वाले आतंकी ठिकाने पाक एजेसिंयों द्वारा प्रायोजित हैं. पाकिस्तान 1947 से देश में घुसपैठ करा रहा है ताकि हमारा ध्यान विकास से भटके.

कश्मीर में सेना द्वारा आतंक के सफाए पर बोलते हुए जनरल रावत ने कहा कि कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों के बीच अच्छा समन्वय है और यह अच्छी खबर है कि पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या में शामिल आतंकी नावीद जट्ट मार गिराया गया है. उन्होंने यह भी कहा कि सेना केंद्रीय सुरक्षाबल के जवानों को आतंकवाद का मुकाबला करने की ट्रेनिंग दे रही है. हमार समक्ष इस समय दो ही विकल्प है या तो एक राष्ट्र के तौर पर हम हाईब्रिड वॉरफेयर का मुकाबला करें या फिर बचाव की मुद्रा में आ जाएं. जहां तक आक्रामकता का सवाल है तो कुछ लोगों का मानना है कि यह दुश्मनों को अपने अंदर झांकने को मजबूर करेगा.

जनरल बिपिन रावत ने कहा कि एक राष्ट्र के तौर हम कभी भी विस्तारवादी नहीं रहे. हम अपने पड़ोसियों के साथ शांति चाहते हैं. दूसरे देशों में अंशाति पैदा करने का काम हम नहीं करते. अच्छे आतंकवादी और बुरे आतंकवादी नहीं होते और ऐसे लोगों का इस्तेमाल अंतत: उस देश को ही नुकसान पहुंचाता है जो ऐसा करता है. पाकिस्तान इसका जीता जागता उदाहरण है.

कश्मीर के हालात पर जनरल रावत ने कहा कि घाटी में सहिष्णुता का स्तर कम हुआ है. कश्मीरी युवाओं को पथभ्रष्ट किया जा रहा है. सेना ने आतंकियों की एक लिस्ट तैयार की है और हमारे जवान इस लिस्ट के अनुसार अपने ऑपरेशन को अंजाम दे रहे हैं.

इंडियन आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा कि सभी लोग शांति की बात करते हैं. शांति के लिए किए जा रहे प्रयास को एक और मौके देने की बात करते हैं. सरकार ने आज साफ कहा है कि करतारपुर साहिब कॉरिडोर को एक अलग तरीके से देखा जाना चाहिए. इसे किसी और मामले से नहीं जोड़ना चाहिए.