देश राजनीती होम

आज ब्रज से पटना पहुंच रहे लालू के लाल, एश्‍वर्या देंगी कोर्ट में जवाब!

राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव के तलाक की अर्जी पर सुनवाई का काउंटडाउन शुरू है। बताया जा रहा है कि मुकदमे की सुनवाई के लिए तेज प्रताप ब्रज से दिल्‍ली होते हुए आज पटना पहुंच रहे हैं। उधर, तेज प्रताप की पत्‍नी ऐश्‍वर्या तथा उनके माता-पिता ने पूरी तरह चुप्‍पी साध रखी है। ऐश्‍वर्या गुरुवार को अपनी बात कोर्ट में रख सकतीं हैं। इस बीच तेज प्रताप के भाई तेजस्‍वी ने इस मामले में मुंह खोला है। विदित हो कि तेज प्रताप यादव ने पत्‍नी ऐश्‍वर्या पर प्रताड़ना का आरेाप लगाते हुए पटना के फैमिली कोर्ट में तलाक का मुकदमा दायर किया है। इस मामले में परिवार का समर्थन नहीं मिलने से नाराज होकर पर वे तीर्थों की ओर निकल गए हैं। अभी तक की जानकारी के अनुसार वे मथुरा-वृंदावन में परिवार की खुशहाली के लिए यज्ञ करा रहे थे।
इस बीच पिता लालू प्रसाद यादव व मां राबड़ी देवी सहित सभी परिजन उन्‍हें समझाने में जुटे हैं। बताया जाता है कि तेज प्रताप के तलाक के विवाद ने उनके बीमार पिता लालू यादव की सेहत पर बुरा असर डाला है। वे डिप्रेशन में भी चले गए हैं। माना जा रहा है कि तेज प्रताप यादव तलाक के मुकदमे की सुनवाई के दिन 29 नवंबर को पटना में रहेंगे। तलाक के मुकदमे के अलावा इन दिनों बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भी तेज प्रताप के आने की उम्‍मीद है। वे राजद विधायक भी हैं। विधानसभा सत्र में भाग लेने की अटकलें अभी भी बनी हुई हैं। वे बुधवार को ब्रज से दिल्‍ली गए। तेज प्रताप दिल्‍ली से गुरुवार को पटना पहुंचने वाले हैं। मिली जानकारी के अनुसार तेज प्रताप यादव बुधवार की शाम ब्रज से दिल्ली रवाना हो गए। वे गुरुवार की सुबह फ्लाइट से पटना पहुंचेंगे। सूत्रों पर विश्‍वास करें तो तेज प्रताप गुरुवार को फ्लाइट से पटना पहुंच जाएंगे। इसके पहले उन्‍होंने बिहार वन स्थित टटिया आश्रम की गौशाला का भ्रमण किया और वन बिहारी व राधारानी से तलाक के विवाद का सकारात्मक हल निकालने की प्रार्थना की। इसके बाद वे यमुना एक्सप्रेस वे से दिल्ली के लिए प्रस्‍थान कर गए। तेज प्रताप के तलाक के मामले में उनके भाई व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और मां राबड़ी देवी ने मीडिया से बात की है। उन्‍होंने कहा है कि तेज प्रताप और ऐश्वर्या दोनों बालिग हैं। पूरा प्रसंग नितांत निजी है। यह पारिवारिक मसला है, जिसे परिवार में ही सुलझा लिया जाएगा।