देश होम

ट्रम्प ने कहा- हम भारत के साथ, आतंकवाद को कभी जीतने नहीं देंगे

26/11 Mumbai Terror Attack: Donald Trump Tweet Late Night We are with India

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मुंबई हमले की बरसी पर देर रात ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- मुंबई आतंकवादी हमले की 10वीं बरसी पर न्याय के लिए अमेरिका भारत के लोगों के साथ खड़ा है। हम आतंकवाद को कभी जीतने नहीं देंगे।ट्रम्प के ट्वीट से पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने मुंबई हमले में शामिल किसी भी व्यक्ति की जानकारी देने पर 50 लाख डॉलर (करीब 35 करोड़ रुपए) के इनाम का एेलान किया। उन्होंने कहा, ‘‘हम हमले में मारे गए छह अमेरिकियों समेत सभी पीड़ितों के परिवारों और दोस्तों के साथ खड़े हैं। 26/11 की बर्बरता ने पूरी दुनिया को अचंभित कर दिया था। अमेरिका इस बर्बरता के जिम्मेदार आतंकियों के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के दायित्वों को लागू करने के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत करेगा।’’पोम्पियो ने कहा, ‘‘पाकिस्तान से कहा जाएगा कि वह अमानवीय हमले के लिए जिम्मेदार लश्कर-ए-तैयबा और दूसरे आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध लगाए। पीड़ित परिवारों के लिए यह बेहद दुख की बात है कि हमले की साजिश में शामिल लोगों के खिलाफ 10 साल बाद भी कार्रवाई नहीं हो पाई।’’विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अमेरिका के उस बयान का स्वागत किया है, जिसमें उसने पाकिस्तान से आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा। साथ ही हमले से जुड़े लोगों की सूचना देने वालों को इनाम देने का ऐलान किया है।उधर, अमेरिका के आतंकवाद विरोधी संगठन के अफसर नाथन सेल्स ने कहा, “हम सभी देशों खासकर पाकिस्तान को अपराधियों को कानून की जद में लाने के लिए कहते हैं। सभी देशों को संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वीकृत आतंकी गुट लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) और इसके नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आगे आना होगा। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत और अमेरिका एकसाथ जुड़े हुए हैं। एक-दूसरे के साथ रक्षा सहयोग से दोनों देशों के संबंध और मजबूत होंगे।”26 नवंबर 2008 को 10 आतंकी कराची से समुद्र के रास्ते मुंबई पहुंचे थे। उन्होंने छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, ताज होटल, ट्राइडेंट होटल और यहूदी केंद्र पर हमला किया था। इसमें 166 लोग मारे गए थे। इनमें 28 विदेशी नागरिक भी शामिल थे। करीब 60 घंटे मुठभेड़ चली थी। एक आतंकी कसाब को जिंदा पकड़ा गया था।