देश राजनीती होम

आखिर क्यों पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को बताया झूठा?

मध्य प्रदेश चुनाव: आखिर क्यों पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को बताया झूठा?

 मध्यप्रदेश चुनाव (MP Assembly Election 2018) की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आते जा रही है वैसे ही राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे पर हमले तेज करते जा रहे हैं. मध्यप्रदेश के मंदसौर में पीएम मोदी (PM Modi) ने एक रैली के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) का गरीबी हटाओ का नारा पूरी तरह से झूठा साबित हुआ है. पीएम मोदी (PM Modi) ने इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) द्वारा बैकों का राष्ट्रीयकरण किए जाने के फैसले को गरीबों के लिए बड़ा फर्जीवाड़ा बताया. पीएम ने कहा कि कांग्रेस ने देश में जितने वर्षों तक शासन किया उसकी तुलना में अगर मुझे आधा समय भी मिल जाए तो हमारी सरकार देश में कई बड़े बदलाव लाकर दिखाएगी. खास बात यह है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) को लेकर पीएम मोदी का यह बयान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस आरोप के बाद आया जिसमें उन्होंने केंद्र सरकार पर झूठे वादे करने का आरोप लगाया था.


रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नेहरू-गांधी की चार पीढ़ियों ने इस देश पर राज किया है, लेकिन इस दौरान उन्होंने गरीबों को सिर्फ धोखा दिया है. पीएम ने कहा कि इंदिरा जी ने नारा दिया था गरीबी हटाएंगे लेकिन क्या आज तक गरीबी हटी. उन्होंने कहा कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण के बाद भी 2014 तक देश के आधी जनसंख्या के पास उनका बैंक खाता नहीं था. क्या राष्ट्रीयकरण गरीबों के नाम पर एक फर्जीवाड़ा नहीं है? गौरतलब है कि मध्यप्रदेश चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने कई बार कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा.
मध्य प्रदेश के मंदसौर में एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भाजपा किसानों के लिए काम करने वाली पार्टी है. गांव, गरीब और किसान मजबूत हो और सरकार के सामने सिर झुका कर खड़ा न रहना पड़े, इसके लिए हम कदम उठा रहे हैं. 5-6 दशक के पाप को ठीक करने के लिए थोड़ा समय भी तो चाहिए. मुझे तो अभी सिर्फ 4 साल मिले हैं. उनसे आधा समय भी मिल जाए तो स्थिति बदल जाएगी. पीएम ने कहा कि मध्य प्रदेश के किसान अपना लोहा मनवा रहे हैं. आज देश में एमपी कृषि के क्षेत्र में अव्वल है. कांग्रेस के जमाने में जो बीमारू राज्य था, आज वह विकास कर रहा है. एमपी गेहूं के उत्पादन में आगे निकल चुका है और देश में दूसरे नंबर पर है. यह किसानों के बूते ही हुआ है. जो आप को गुमराह करते हैं उनसे सवाल पूछिये कि 55 साल वो कहां खो गए थे? पहले उन्हें किसान क्यों याद नहीं आए. कृषि उत्पादन को ढाई गुना करने में शिवराज की सरकार सफल हुई है.पीएम मोदी ने कहा कि दशकों तक किसानों की अनदेखी हुई. इसका नतीजा भी गलत रहा. किसान यूरिया के लाठी झेलते थे, ब्लैक में खरीदते थे. जब मैं सीएम था तब मैं भी भारत सरकार को चिट्ठी लिखता था. मेरे पीएम बनने के बाद इस देश के किसी भी सीएम को चिट्ठी लिखने की नौबत नहीं आई. आज किसानों को तमाम समस्याओं से मुक्ति मिल गई है. पहले यूरिया की चोरी होती थी, मोदी ने सारे दरवाजे बंद कर दिये. यूरिया का नीम कोटिंग किया, अब इसका एक दाना भी केमिकल फैक्ट्री के काम नहीं आता है.