उत्तर प्रदेश देश राजनीती होम

शिवपाल यादव ने महागठबंधन में शामिल होने की जताई इच्छा

शिवपाल यादव

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के संयोजक शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि हम महागठबंधन में शामिल होने के लिए तैयार हैं, बशर्ते चुनाव में 50 फीसदी सीटें हमारी पार्टी को दी जाएं। उन्होंने सवाल भी दागा कि क्या अभी तक महागठबंधन न हो पाने के पीछे की वजह सीबीआई है। साथ ही 9 दिसंबर को प्रसपा, बहुजन मुक्ति पार्टी और बहुजन क्रांति मोर्चा के साथ मिलकर रमाबाई मैदान में बड़ी रैली करने का एलान भी किया।

शिवपाल ने नौ दिसंबर की रैली के बारे में जानकारी देने के लिए मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। उनसे अमर उजाला ने पूछा, आपकी पार्टी को भाजपा की ‘बी’ पार्टी बताया जा रहा है। इस पर शिवपाल ने बड़ी सहजता से कहा, वह केंद्र और प्रदेश से भाजपा को उखाड़ फेंकना चाहते हैं।

महागठबंधन में शामिल होने के लिए भी तैयार हैं, बशर्ते उन्हें लोकसभा चुनाव में यूपी में 50 फीसदी सीटें दी जाएं। अगर इससे कम सीटें मिलीं तो महागठबंधन में शामिल नहीं होंगे? शिवपाल का जवाब था- ऐसा नहीं है। कम से कम महागठबंधन बनाने की सोच रहे नेता उनसे बातचीत तो शुरू करें।

एक अन्य सवाल के जवाब में शिवपाल ने कहा, पूर्व कैबिनेट मंत्री राजा भैया के साथ मिलकर चुनाव लड़ने के बाबत उनकी कोई बात नहीं हुई है। प्रसपा, बहुजन मुक्त मोर्चा और बहुजन क्रांति मोर्चा साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। कहा कि किसानों को उपज का वाजिब मूल्य नहीं मिल रहा है।अल्पसंख्यक नौजवानों को झूठे मुकदमों में फंसाया जा रहा है। कानून-व्यवस्था ध्वस्त है। 9 दिसंबर की रैली का उद्देश्य सामने रखते हुए कहा, संविधान बचाओ-ईवीएम हटाओ, हमारा नारा है। इस अवसर पर बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव बंशीलाल यादव, बहुजन क्रांति मोर्चा के संयोजक वामन मेश्राम और प्रसपा की महासचिव सैयद सादाब फातिमा भी मौजूद रहीं।