देश मनोरंजन होम

प्रीति जिंटा ने मांगी माफी, बताया खुदको मी टू मूवमेंट का सपोर्टर

Me too: प्रीति जिंटा ने मांगी माफी, बताया खुदको मी टू मूवमेंट का सपोर्टर

प्रीति जिंटा ने मी टू को लेकर एक बयान दिया जिसके बाद वे सुर्खियों में आ गई। उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल का शिकार होना पड़ा। और अब इस कारण मीडिया के सामने सफाई देने के बाद उन्होंने लिखित माफी मांगी है।

दरअसल, इन दिनों अपने बयान को लेकर सुर्खियों में आई प्रीति जिंटा कारण विवादों में भी आ गई हैं और सोशल मीडिया पर ट्रोल भी हो रही हैंl प्रीति जिंटा मुंबई में उनकी फिल्म भैयाजी सुपरहिट को लेकर प्रचार करने आई थीं। इसी दौरान मी टू अभियान के बारे में पूछे जाने पर उनके मुंह से कुछ ऐसा निकल गया जिसे सुनकर सब सन्न रह गए l प्रीति ने मी टू जैसे गंभीर अभियान का मज़ाक बना दिया l एक इंटरव्यू के बाद वह मीडिया से इनफॉर्मल बातें करते हुए मीडिया का जमावड़ा देख उनके मुंह से मी टू के लिए ‘मी टू-स्वीटू’ जैसी बात निकल गई l हालांकि जैसे ही उन्होंने इस बात को कहा वहां पर खड़े मीडियाकर्मी ठहाके लगाने लगे। इसके बाद प्रीति जिंटा ने भांप लिया कि उनके मुंह से कुछ गलत निकला है। उन्होंने तुरंत इस पर सफाई देते हुए कहा कि ऐसा इस फिल्म की किरदार सपना दुबे जो उनकी भूमिका है वह कह सकती है। तब तक तीर कमान से निकल चुका था और प्रीति जिंटा के इरादे इस बात को लेकर स्पष्ट हो चुके थे। प्रीति जिंटा ने बाद में मीडियाकर्मियों से क्षमा भी मांगी। हालांकि ये बात सोशल मीडिया पर जब से आई है ख़ूब हंगामा हो रहा है l अब हंगामे को भांपता देख प्रीति ने लिखित माफी मांगी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक लेटर शेयर किया है। इसमें वे लिखती हैं कि, सभी महिलाओं से माफी मांगती हूं अगर मैंने उनकी भावनाओं को अनजाने में ठेस पहुंचाई हो। मी टू मूवमेंट। कोई अगर एब्यूज का शिकार हुआ है तो यह गलत है और इस बात को मुझे क्लीअर करना है। पहली बात तो मैं इस मूवमेंट की सपोर्टर हूं। और यह दुर्भाग्य है कि किसी ने मेरे शब्दों को गलत तरह से पेश किया। मेरा कहने का मतलब था कि, अगर मेरे साथ एेसा कुछ हुआ था तो मैंने रिएक्ट किया था। मैंने एेसा करने वाले को थप्पड़ मारा। इसलिए आगे मेरे साथ एेसा कुछ नहीं हुआ। यह सब पूरी दुनिया ने देखा। लेकिन मैंने यह पाया कि हर कोई इस पॉजीशन में नहीं होता कि रिएक्ट कर सके। इसलिए मैं उन महिलाओं को आंकना नहीं चाहती जिनके साथ गलत हुआ है। स्वीटू और मी टू मूवमेंट मेरा नहीं था लेकिन मैं एक पुरुष को इसमें कोट कर रही थी। चूंकि अब पुरुष वर्क प्लेस पर महिलाओं को लेकर सजग हो गए हैं।