देश होम

ISI ने ऐप से दी थी आतंकियों को ग्रेनेड फेंकने की ट्रेनिंग: अमृतसर

पंजाब के अमृतसर स्थित एक गांव में हुए बम धमाके में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) की जांच चल रही है. पंजाब पुलिस के सूत्रों की मानें तो हमले के पीछे खालिस्तानी समर्थकों का हाथ है, जिन्होंने स्थानीय लड़कों को बहकाकर इस वारदात को अंजाम दिया. इनमें आतंकी हरमीत सिंह पीएचडी का नाम भी शामिल है. करीब 40 साल का पीएचडी पाकिस्तान में बैठा ऐसा खालिस्तानी आतंकी है, जो पंजाब में फिर से आंतक फैलाने के लिए पूरी ताकत लगा रहा है. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की शह पर कश्मीर के आतंकी संगठनों के साथ पाकिस्तान में छिपकर बैठे खालिस्तानी आतंकियों ने इस धमाके की साजिश रची थी.बता दें कि राजासांसी के पास गांव अदलीवाल स्थित निरंकारी भवन में रविवार को सगामग के दौरान बम विस्फोट हुआ था. इसमें 3 लोगों की मौके पर मौत हो गई, जबकि 22 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं.इस समय पाक में सक्रिय आतंकी संगठन कश्मीर के आतंकियों और पंजाब में चरमपंथी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. बता दें कि पंजाब में वांटेड आतंकी वधावा सिंह बब्बर, परमजीत सिंह पंजवाड़, हरमीत सिंह पीएचडी, लखबीर सिंह रोडे पाकिस्तान में पनाह लेकर बैठे हैं, इन्हें ISI शेल्टर कर रही है.बताया जा रहा है कि इस हमले के लिए विदेश से फंडिंग हुई है, जिसकी मदद से ही आईएसआई के स्लीपर सेल ने स्थानीय लड़कों को हैंड ग्रेनेड मुहैया कराई गई.

इससे पहले इस तरह के और भी मामले सामने आ चुके हैं, जहां पर आतंकियों ने सैन्य ठिकानों और सैन्य बलों पर हैंड ग्रेनेड फेंके और फरार हो गए. इसके लिए कश्मीर के लोकल युवाओं की मदद भी ली गई. पंजाब पुलिस के इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक, हैंड ग्रेनेड को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाना आसान है.
पहले भी सामने आ चुके ऐसे मामले
पंजाब में पिछले 3 महीनों में कश्मीरी, खालिस्तानी और पाक आतंकियों के ISI के नेक्सस के साथ होने की घटनाएं:-

14 सितंबर: जालंधर के मकसूदां थाने पर चार देसी बम फेंक कर हमला किया गया. जांच में पता चला कि कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन गजवत उल हिंद के चीफ जाकिर मूसा ने ये हमला करवाया था.

10 अक्टूबर: जालंधर के सी टी कॉलेज में कश्मीरी छात्रों से AK-56 राइफल और विस्फोटक पकड़ा गया इनका संबंध भी जाकिर मूसा से निकला.

16 अक्टूबर: यूपी के शामली में एनकाउंटर के बाद हरियाणा और यूपी के तीन युवक पकड़े गए. जिनसे पुलिस पर फायरिंग कर लूटी हुई इंसास राइफल मिली. इससे पंजाब में 7 अक्टूबर को प्रकाश सिंह बादल को पटियाला रैली में निशाना बनाने की साजिश का खुलासा हुआ.

1 नवंबर: पटियाला में खालिस्तान गदर फोर्स का आतंकी शबनमदीप सिंह पकड़ा गया. इसका टारगेट बस स्टैंड में भीड़ भरे इलाके में ब्लास्ट करना था.

14 नवंबर: 4 संदिग्धों ने पठानकोट के माधोपुर में जम्मू से किराए पर लाई गई इनोवा हथियारों के बल पर लूट ली. जिसका अब तक सुराग नहीं लग सका है. इस इनोवा कार का आतंकी वारदात में इस्तेमाल करने का शक इंटेलिजेंस एजेंसियों को है.

15 नवंबर: दिल्ली से खुफिया एजेंसियों ने पंजाब पुलिस के काउंटर इंटेलिजेंस को 7 आतंकियों के फोटो रिपोर्ट जारी किए. यह जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी हैं, जो फिरोजपुर बॉर्डर से पंजाब में दाखिल होकर दिल्ली पहुंचकर हमला करने की कोशिश करने में लगे हैं. ये टेरर अलर्ट अभी भी जारी है.

16 नवंबर: पंजाब पुलिस को अलर्ट मिला कि कश्मीर के आतंकी जाकिर मूसा की मूवमेंट अमृतसर एरिया में देखी गई है. जानकारी पुख्ता थी और पंजाब के पाकिस्तान से सटे तमाम जिलों में जाकिर मूसा के पोस्टर लगाकर जनता को अवेयर किया गया.

18 नवंबर: जाकिर मूसा के मूवमेंट के इनपुट के दो दिन बाद ही अमृतसर के अजनाला राजा सांसी रोड पर निरंकारी डेरे में दो लोगों ने घुसकर ग्रेनेड अटैक कर दिया.

इस आतंकी घटना के बाद दिल्ली समेत कई राज्यों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वहीं इस मामले में निरंकारी भवन के प्रबंधक द्वारा पुलिस में FIR दर्ज करा दी गई है. जिन दो लड़कों पर ग्रेनेड फेंकने का शक है, उनकी तस्वीर भी सामने आई है. पुलिस लगातार उनकी तलाश कर रही है.