होम

चंद्रमा के बारे में अद्भुत तथ्य

क्या आप जानते है की “चंद्रमा” शब्द लैटिन भाषा के शब्द “लुना” (Luna) से आता है, जिसका अर्थ है “चमक” या “उज्ज्वल”। इसी प्रकार चाँद, चंद्र, चन्द्रमा, चंदा (मामा) के नाम से जाने वाले अँधेरी रात में सफ़ेद चमकते गोले के बारे कुछ और अनोखे और विचित्र बाते जाने।

1. औसतन, चंद्रमा पृथ्वी से 238,750 मील (384,400 किमी) या लगभग 30 पृथ्वी चौड़ाई दूर है।
2. चाँद का सबसे पुराना ज्ञात नक्शा, लगभग 5,000 वर्ष पुरानी एक चट्टान पर तराशा हुआ पाया गया था।

3. सभी पूर्ण चन्द्रमा समान आकार के नहीं होते हैं। उनका आकार इस बात पर निर्भर करता है कि चन्द्रमा अपने एपीगी (धरती से दूर) या पेरिजी (धरती के पास) में है या नहीं। चंद्रमा का आकार 14% तक अधिक लग सकता है।

4. जब चन्द्रमा पृथ्वी के सबसे करीब होता है (पेरिजी), तो बढ़ते गुरुत्वाकर्षण के कारण बड़ा ज्वार और अधिक अस्थिर मौसम पैदा हो सकता है।

5. चंद्रमा (लूनर -Lunar) के चरणों (आकार के बढ़ने घटने को )को ऐतिहासिक रूप से पागलपन (दिमागी असंतुलन) से जोड़ा गया है, और शब्द “पागल” (लूनाटिक- Lunatic ) इसी से आता है। ऐसा माना जाता है ,पूर्णिमा (पूरे चाँद )के दिन चन्द्रमा का गुरुत्वाकर्षण मानव के मस्तिष्क में मौजूद पानी को प्रभावित करता है, जिससे कुछ व्यक्ति पागलपन या तर्कहीन व्यवहार करने लगता है।

6. चंद्रमा का कोई वायुमंडल नहीं है, इसलिए इसका तापमान -200 डिग्री सेल्सियस से 200 डिग्री सेल्सियस तक हो जाता है।

7. चंद्रमा का व्यास 2,159 मील (3,475 किमी) है, जो पृथ्वी की तुलना में लगभग चार गुना छोटा है, जो 7,926 मील (12,756 किमी) है।

8. चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण ने पृथ्वी के घूर्णन (घूमने) की गति को धीमा कर दिया है।

9. आजतक चाँद पर केवल 12 लोगो ने कदम रखा हैं (1 9 6 9 से 1 9 72 के अपोलो मिशन के दौरान) आखरी अंतरिक्ष यात्री को चंद्रमा पर गए हुए 45 साल से ज्यादा हो गए है।

10. चूंकि चाँद की सतह पर कोई वायु या पानी नहीं है, इसलिए उसकी सतह पर छोड़े गए अंतरिक्ष यात्री के पदचिह्न लाखों साल तक रह सकते हैं।

11. अंतरिक्ष संधि (आउटर स्पेस ट्रीटी )के अनुसार, चंद्रमा की धरती पर सभी देशो का समानाधिकार है। यह संधि कहती है कि सभी राष्ट्रों द्वारा चाँद का शांतिपूर्ण प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जा सकता है, और यह चन्द्रमा पर किसी भी प्रकार के सामूहिक विनाश या सैन्य ठिकानों के हथियारों पर प्रतिबंध है।

12. पृथ्वी से, चंद्रमा और सूरज एक ही आकार के बारे में देखते हैं। इसका कारण है की जबकि चंद्रमा सूरज से 400 गुना छोटा है, लेकिन यह धरती के करीब 400 गुना अधिक नजदीक है।

13. चंद्र ग्रहण के समय , जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच गुजरती है। चंद्र ग्रहण हमेशा सूर्य ग्रहण से अधिक समय रहता है क्योंकि पृथ्वी की छाया बहुत बड़ी है। चंद्र ग्रहण का असर हमारे जीवन पर भी पड़ता है। जानिए की सपने में चंद्रग्रहण देखने का क्या मतलब होता है

14. चाँद पर एक पूरा दिन (एक सूर्योदय से दूसरे तक) औसतन पृथ्वी के 29 दिनों के बराबर होता है।

15. चाँद पर कोई चुंबकीय क्षेत्र नहीं है, इसलिए वहां कंपास काम नहीं करेगा।

16. पूर्णिमा (पूरे चाँद की रात) आधे-चाँद की तुलना में लगभग पांच गुना उज्जवल होती है।

17. ज्योतिष शाश्त्र में, चंद्र व्यक्ति की आंतरिक प्रकृति को दर्शाता है। चंद्रमा व्यक्ति के भावनात्मक और अवचेतन मन से जुड़ा हुआ माना जाता है।
भगवान् शिव चन्द्रमा को अपने सर पर धारण करते , एक कथा के अनुसार चाँद की शीतलता आपके मस्तिक को शांत रखती है।

18. हिन्दू पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है कि चन्द्र (चाँद) का जनम दूध के समुद्र से असुरस और देवों के द्वारा मंथन किये जाने पर हुआ था। चाँद एक हिन्दू देवता है और हिंदू धर्म में माने जाने वाले नौ गृहों (नवग्रह) में से एक है।