देश होम

आलोक वर्मा को जवाब दाखिल करने के लिए SC ने दिया 3 घंटे का समय

CBI Director Alok Verma Friday appeared before a panel headed by Central Vigilance Commissioner K V

सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा (CBI Director Alok Verma) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एक याचिका दाखिल कर कहा कि वह केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट पर एक बजे तक जवाब दाखिल नहीं कर सकेंगे। इस पर कोर्ट ने वर्मा को तीन घंटे का समय और दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा को कहा है कि इस मामले की कल (मंगलवार) को ही मामले की सुनवाई होगी, यह मत सोचना की मामले की तारीख आगे बढ़ा दी जाएगी।

आपको बता दें कि सीवीसी की रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा से जवाब मांगा था। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सीलबंद लिफाफे में आलोक वर्मा कोर्ट को जवाब दाखिल करें। वहीं कोर्ट ने कहा था कि सीवीसी की जांच रिपोर्ट की कॉपी को पूरी तरह से गोपनीय रखा जाएगा। सीवीसी रिपोर्ट की कॉपी आलोक वर्मा को सौंपी जाएगी।

सीबीआई अधिकारी ने तबादला नागपुर किए जाने के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया
उधर, विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख करके अपना तबादला नागपुर किए जाने के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया। भ्रष्टाचार के कथित मामले में अस्थाना की भूमिका की जांच कर रही टीम का हिस्सा रहे आईपीएस अधिकारी मनीष कुमार सिन्हा ने मंगलवार को अविलंब सुनवाई के लिये प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष अपनी याचिका का उल्लेख किया। इस पीठ में न्यायमूर्ति एस. के. कौल और न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ भी शामिल हैं।

गौरतलब है कि यह पीठ अधिकार छीनने और अवकाश पर भेजने संबंधी सरकारी आदेश को चुनौती देने वाली सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर कल सुनवाई करने वाली है। सिन्हा ने कहा कि उनकी अर्जी पर भी कल वर्मा की याचिका के साथ ही सुनवाई की जाए। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनका तबादला नागपुर कर दिया गया है और इस वजह से वह अस्थाना के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी की जांच से बाहर हो गए हैं। सरकार ने एक आदेश जारी कर अस्थाना की भी शक्तियां छीन ली गई हैं और उन्हें अवकाश पर भेज दिया है।