दिल्ली देश होम

फैशन डिजाइनर और नौकर की हत्या के बाद थाने पहुंचे आरोपी, पुलिस से बोले-लाशें पड़ीं हैं, जाकर उठा लो

दिल्लीः फैशन डिजाइनर और नौकर की हत्या के बाद थाने पहुंचे आरोपी, पुलिस से बोले-लाशें पड़ीं हैं, जाकर उठा लो

रात के करीब दो बजकर 45 मिनट हो रहे थे. अचानक दिल्ली के वसंत कुंज थाने में 24 से 26 साल के तीन नौजवान पहुंचते हैं और वे ड्यूटी ऑफिसर से मुखातिब होते हैं. फिर चौंकाने वाला दावा करते हैं. उन्होंने यह कहकर सनसनी फैला दी- हमने वसंत एन्क्लेव के मकान नंबर A-82 में डबल मर्डर कर दिया है. शव घर में पड़े हैं .जाकर उठा लो. यह सुनते ही थाने में हड़कंप मच गया. ड्यूटी अफसर ने एसएचओ संजीव डेढा को यह जानकारी दी तो एसएचओ  ने उन तीनों से बात की तो वे नशे में धुत मिले. पुलिस को लगा शायद ये नशे में ऐसा बोल रहे हैं. लेकिन उन लोगों ने बताया कि हत्या के बाद वो लूट का सामान  मालकिन की कार में रखकर आये हैं .जो कार थाने पर खड़ी है.पुलिस ने कार बरामद की और उसके बाद एसएचओ अपनी टीम के साथ, तीनों आरोपियों को लेकर उसी घर में पहुंच गए जहां तीनो डबल मर्डर की बात कर रहे थे. वसंत कुंज एन्क्लेव की उस आलीशान कोठी में दाखिल होते ही पुलिस के होश उड़ गए. तीनों का दावा सही निकला. घर के एक कमरे में एक बुटीक था जिसके बाथरूम में खून से लथपथ 2 शव पड़े थे.एक शव  53 साल की फैशन डिजाइनर  माला लखानी का और दूसरा 50 साल के माला के घरेलू सहायक बहादुर का.

पुलिस के मुताबिक माया के शव पर चाकुओं के करीब पांच जबकि बहादुर के शव पर करीब 2 दर्जन वार किए गए थे. तीनों आरोपियों में एक राहुल अनवर ने बताया कि वो माला के घर के बुटीक पर कई सालों से टेलर के तौर पर काम करता है. माला उसे सूटों की सिलाई का कम पैसा देतीं थी वो इसी बात से नाराज था. इसलिए उसने अपने दो साथियों रहमत और वसीम के साथ मिलकर करीब 10 दिन पहले माया की हत्या और लूट का प्लान बनाया. राहुल के दोनों साथी भी पेशे से टेलर हैं और राहुल की मदद करते हैं. प्लान के मुताबिक राहुल ने अपने दोनों साथियों को माला के बंगले पर बुधवार रात पहले से बुला लिया. फिर रात करीब 10 बजे माला लखानी को उनके कमरे से बुटीक में तैयार कपड़े देखने के लिए बुलाया गया, जैसे ही माला लखानी बुटीक में पहुंची, राहुल ने अपने साथियो के साथ मिलकर माला लखानी पर चाकुओं से कई वार किए.  घर का नौकर बहादुर माला लखानी की चीख सुनकर वहां पहुंचा तो इन तीनो ने उसको भी लगातार चाकू मारे. दोनों की हत्या करने के बाद कमरे का खून साफ किया और दोनों के शव बुटीक के बाथरूम में डाल दिये.

ज्वाइंट कमिश्नर अजय चौधरी के मुताबिक हत्या करने के बाद तीनों ने घर में लूटपाट शुरू की ,लेकिन घर में इन्हें ज्यादा कुछ नहीं मिला . माला के गहने और कुछ पैसे लूटने के बाद इन लोगों ने माया की हुंडई वर्ना कार ली और उसके बाद ये लोग रंगपुरी इलाके में गए ,वहां इन लोगों ने शराब पी और फिर चाकू और वारदात के वक्त जो कपड़े पहने थे वो सब एक गत्ते के डब्बे में छुपा दिए. उसके बाद ये लोग काफी देर तक बैठे बातें करते रहे. इसी बीच  राहुल के एक दोस्त रहमत ने कहा कि “देखो हमने गलती तो कर दी है पुलिस वैसे भी हमें पकड़ लेगी . इसलिए हमें सरेंडर कर देना चाहिए. शराब के नशे में भावुक बाकी दोस्तों ने भी इसके लिए हामी भर दी ,और फिर तीनों माला की कार से ही थाने पहुंच गए. पुलिस के मुताबिक  राहुल अनवर ,माला लखानी के पास 4 साल से काम कर रहा था,वो 2017 में छेड़खानी और पास्को के एक केस में पहले भी गिरफ्तार हुआ था