होम

जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला

टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला

इनेलो और चौटाला परिवार की कलह में नया मोड़ आ गई है। चौटाला परिवार टूट गया है और दोनों भाइयों अजय सिंह चौटाला और अभय सिंह चौटाला की राजनीतिक राहें जुद हो गई हैं। अजय चौटला ने जिस इनेलो को पिता आेमप्रकाश चौटाला के साथ मिलकर खड़ा किया था उससे उन्‍हें बाहर निकाल दिया गया है। उनको बड़े चौटाला ने पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में अजय चौटाला को इनेलो से निष्‍कासित कर दिया है।

इसकी घोषणा इनेलो के प्रदेश प्रधान डॉ. अशोक अरोड़ा ने बुधवार को अभय चौटाला के साथ एक प्रेस कान्‍फ्रेंस में की। अरोड़ा ने निष्‍कासन के संबंध में आेमप्रकाश चौटाला के पत्र को पढ़कर सुनाया। उन्‍होंने इस पत्र की प्रति पत्रकारों को नहीं दी। निष्‍कासन पत्र मांगने पर पत्रकारों को पिछले दिनों सांसद दुष्‍यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को निष्‍कासित किए जाने का पत्र दिया। अजय चौटाला के निष्‍कासन का पत्र उन्‍होंने बाद में जारी किए जाने की बात कही।

इससे पहले अजय चाैटाला के दोनों बेटों सांसद दुष्‍यंत चौटाला और दिग्विजय सिंह को पार्टी से बाहर कर दिया गया था। दूसरी अोर, दिग्विजय चौटाला ने अजय चौटाला के निष्‍कासन के पत्र काे फर्जी बताया है। उधर, दुष्‍यंत चौटाला ने कहा कि कुछ लोग चौटाला साहब के नाम पर सारा खेल चला रहे हैं। अजय चौटाला का निष्‍कासन इनेलो के इतिहास में काला धब्‍बा और पार्टी को कलंकित करने वाला फैसला है।

अजय चौटाला के निष्‍कासन का आदेश इनेलो के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला के हवाले से जारी किया गया। यह घोषणा विधानसभा में नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला और इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने यहां पत्रकार वार्ता की और पार्टी में जारी विवाद पर विस्‍तार से अपने पक्ष रखे। इसके साथ ही अशोक अरोड़ा ने 17 नवंबर को चंडीगढ़ में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक भी बुलाने की घोषणा की।

विधानसभा में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला और आठ विधायकों, एक सांसद, एक राज्यसभा सदस्य और चार पूर्व विधायकों की मौजूदगी में इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मीडिया को चौटाला का फरमान पढ़कर सुनाया।

चंडीगढ़ के सेक्टर नौ में अभय चौटाला के निवास पर अशोक अरोड़ा ने 17 नवंबर को अजय सिंह चौटाला द्वारा जींद में बुलाई बैठक को भी असंवैधानिक करार दिया। साथ ही प्रदेशाध्यक्ष के नाते अशोक अरोड़ा ने इसी दिन 17 नवंबर को चंडीगढ़ के जाट भवन में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाने की घोषणा की। इस बैठक में शामिल होने के लिए लगे हाथ विधायकों, सांसदों, पूर्व विधायकों और पूर्व सांसदों, प्रदेश पदाधिकारियों तथा जिला अध्यक्षों के लिए पत्र जारी कर दिया गया।