Breaking News उत्तर प्रदेश होम

कुंभ के लिए चलेंगी 415 स्पेशल बसें

रेलवे के बाद अब रोडवेज ने कसी कमर, कुंभ के लिए चलेंगी 415 स्पेशल बसें

प्रदेश सरकार की पहल पर परिवहन निगम ने भी कुंभ की तैयारी शुरू कर दी है। कुंभ के दौरान प्रयाग के संगम तट पर पूर्वांचल के श्रद्धालुओं को स्नान कराने के लिए 415 स्पेशल बसें चलाई जाएंगी। यह बसें गोरखपुर परिक्षेत्र के विभिन्न डिपो से चलाई जाएंगी। बसों को समय से संचालित करने के लिए संविदा चालकों और परिचालकों की भर्ती भी शुरू हो गई है। ताकि, स्पेशल बसों का संचलन प्रभावित न हो।पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने तो कई माह पहले से ही कुंभ की तैयारी शुरू कर दी है। इलाहाबाद सिटी से विभिन्न तिथियों में पूर्वोत्तर रेलवे के सभी रूटों पर लगभग 100 स्पेशल ट्रेनें चलाने की योजना है। कुंभ के दौरान इस रूट पर चलने वाली सभी ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाए जाएंगे। रुटीन गाडिय़ां भी सभी स्टेशनों पर रुकते हुए चलेंगी।छठ पर्व पर घर आए लोगों के लिए राहत भरी खबर है। वापसी के लिए अब वे वातानुकूलित की तरह सामान्य एक्सप्रेस बसों में भी एडवांस टिकट बुक करा सकते हैं। टिकट बुक कराने के लिए लोगों को गोरखपुर परिक्षेत्र के समीप वाले बस डिपो में जाना पड़ेगा। विशेषत: टिकटों की बुकिंग समूह में ही होगी। अगर किसी गांव या कस्बे के लोग समूह में लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद और दिल्ली आदि जाना चाहते हैं तो वे डिपो में आकर टिकटों की बुकिंग करा सकते हैं। किराए में कोई बढोत्तरी नहीं होगी। निर्धारित तिथि और समय से बस पास वाले डिपो में खड़ी रहेगी। अगर जरूरत पड़ी तो निगम बस को गांव या कस्बा में भी भेज देगा। बुकिंग वाली बसों में सीट खाली होने पर एक या दो व्यक्ति भी एडवांस टिकट बुक करा सकते हैं।गोरखपुर परिक्षेत्र में यह सुविधा छठ बाद एक सप्ताह से अधिकतम दस दिन तक मिलेगी। दरअसल लोग छठ पर्व मनाने किसी तरह घर तो पहुंच गए हैं लेकिन इसके बाद वापसी मुश्किल हो गई है। ट्रेनों में जगह नहीं मिल रही। बसों में धक्कामुक्की करनी पड़ रही। दिल्ली और पंजाब आदि से घर पहुंचे पूर्वांचल और बिहार के सीमाई क्षेत्र के लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में परिवहन निगम ने इस नई सुविधा की शुरुआत की है। इस संबंध में परिवहन निगम के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक मुकश कुमार ने बताया कि छठ पर्व पर घर आए लोगों की सुविधा के लिए यह व्यवस्था की गई है। यात्री डिपो पहुंचकर विस्तृत जानकारी ले सकते हैं। छठ की भीड़ के बाद इस व्यवस्था को समाप्त कर दिया जाएगा।