Breaking News उत्तर प्रदेश देश होम

मंदिर के बाहर बेचती थी प्रसाद, नाबालिग से गैंगरेप

लखनऊ के बख्शी का तालाब स्थित चन्द्रिका देवी मंदिर मेला परिसर में गुरुवार को प्रसाद की दुकान में किशोरी को बंधक बनाकर गैंगरेपकिया गया। किशोरी के शोर मचाने पर दो भाइयों समेत तीनों आरोपी मौके से फरार हो गए। तीनों की मेला परिसर में ही प्रसाद की दुकान है। इस मामले को परिसर में मौजूद अन्य दुकानदार दबाने का प्रयास करते रहे। इंस्पेक्टर बीकेटी देर रात करीब 10 बजे पीड़िता और उसके परिवारीजनों की सुध लेने पहुंचे। जानकारी के मुताबिक, बीकेटी में सीतापुर निवासी एक शख्स प्रसाद की दुकान लगाता है। वहां उसकी ससुराल है। पीड़िता भी पिता की दुकान पर देखरेख करती थी। आरोप है कि मेला परिसर में ही दो भाइयों समेत एक अन्य आरोपित की दुकान है। दोपहर में लगभग 2 बजे एक आरोपी ने किशोरी को बहाने से दुकान में बुला लिया। पीड़ित किशोरी के मुताबिक जैसे ही वह दुकान में गई वहां पहले से मौजूद दो अन्य लोगों ने उसे खींच लिया। आरोपितों ने तेज आवाज में गाना चला दिया। अन्य दुकानों में भी गाने बज रहे थे। किशोरी ने शोर मचाया पर तेज गानों में उसकी चीखें दब गईं। आरोप है तीनों ने उससे गैंगरेप किया। किशोरी किसी तरह दुकान से बाहर आई और मदद के लिए शोर मचाया। कुछ दूरी पर मौजूद किशोरी के पिता व अन्य दुकानदार पहुंचे तो आरोपी फरार हो गए।

दोपहर की सूचना पर रात में पहुंची पुलिस
पीड़ित पिता के मुताबिक उसने दोपहर में यूपी-100 को सूचना दी थी, लेकिन पुलिस ने तुरंत ऐक्शन नहीं लिया। आरोपी कॉल करके जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। पीड़ित पिता ने बताया कि इंस्पेक्टर ने देर रात उसे व बेटी को प्रधान के घर बुलाया। पीड़ित पिता का कहना है कि गांव के लोगों समेत पुलिस मामला दबाने का प्रयास कर रही है।

चौकी है, पर पुलिसकर्मी रहता नहीं
लोगों ने बताया कि चन्द्रिका देवी मंदिर चौकी बनी हुई है लेकिन दो महीने से कोई पुलिसकर्मी वहां नहीं आया। चौकी पर एक एसआई की ड्यूटी भी लगाई गई है पर वह आते नहीं। इंस्पेक्टर बीकेटी अमरनाथ वर्मा का कहना है कि चौकी इंचार्ज की तबीयत खरब रहती है, इसलिए वह नहीं आते हैं। गैंगरेप की सूचना देर से मिली। गैंगरेप, पॉक्सो एक्ट समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।